मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर यूथ संस्कार फाउंडेशन ने वेबिनार से किया लोगों को जागरूक

0

बिलासपुर.यूथ संस्कार फाउंडेशन, लियो क्लब उत्कर्ष के संयुक्त तत्वाधान में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर कोविड.19 मेन्टल हेल्थ एंड वेल बीइंग विषय पर वेबिनार का आयोजन कर मानसिक स्वास्थ्य के प्रति लोगो को जागरूक किया गया।

कार्यक्रम का संचालन कर रहे अनुराग तिवारी ने विश्व मानसिक दिवस मनाए जाने की महत्ता को बताया कार्यक्रम के स्वगात भाषण में लियो क्लब उत्कर्ष की अध्यक्ष प्रकृति शर्मा ने बताया तनाव में सबसे ज्यादा आज युवा पीढ़ी होता है जो अपने कैरियर,

पर्सनालिटी, पर्सनल व प्रोफेशनल लाइफ को ले कर मानसिक तनाव की अनुभूति करता है। कार्यक्रम की मुख्य वक़्ता फ्यूचरिस्टिक अकादमी की डायरेक्ट भूमिका गिरजे ने बताया कि तनाव आज मानव जीवन का हिस्सा बनाते जा रहा है जिसके पीछे मुख्य वजह ओवर थिंगिंग है व कम समय व कम मेहनत में अधिक चीजो चाह है।

तनाव को सही समय मे पहचान कर इसका जल्द से जल्द किसी प्रोफेशनल कॉउंसेलर के द्वारा करना चाहिए जिससे वे सही मार्गदर्शन दे सके औऱ समय रहते आपके जीवन को बेहतर बना सके अत्यधिक तनाव होने पर लोग मानसिक रूप से विकलांग भी हो सकते है।

योग, संतुलित आहार, पर्याप्त नींद, इत्यादि के माध्यम से हम अपने दिनचर्या को तनाव मुक्त कर सकते है। कार्यक्रम में पधारी गुरुघासीदास की मीडिया प्रभारी प्रतिभा जे मिश्रा ने बताया कि ए बी सी मेन्टल वेल बीइंग टेक्निक पर अपना उद्बोधन देते हुए बताया कि

हमे अपने मन की बात बता ने के लिए एक विश्वासपात्र मित्र की आवश्यकता होती है ये आपके फैमिली मेंबर या दोस्त हो सकते है आप अपनी परेशानी जरूर साझा करें अगर आपको कोई साथी नही मिलता है

तो आप अपने डायरी में अपनी मन कि बाते लिखे औऱ अपनी फीलिंग को बाहर निकले क्योकि जब तक तनाव में हम बात नही करते है तब तक बात नही बनती है। एक संतुलित मानसिकता के लिए एक संतुलित दिनचर्या का होना आती आवश्यक होता है हमें जिस चीज में रुचि है वह कार्य करना चाहिए

खाली समय का सही उपयोग करना चाहिए ज्यादा समय तक खाली नही बैठना चाहिए। हमेशा किसी ना किसी कार्य मे व्यस्त रहना चाहिए । कार्यक्रम में देश भर से प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया

और अपने परेशानियों को अतिथियों के समक्ष रखते हुए पूछा कि मन मे नेगेटिव विचार आने से कैसे रोके जिस पर अतिथियों ने कई सारे टिप्स व ट्रिक देते हुए उनका उत्तर दिया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से अनुराग तिवारी, प्रकृति शर्मा, ज्ञान चंद पटेल, सुमित घोष, आकृति शर्मा, अभय दुबे, योगेश देवांगन, आराधना तोड़े, रश्मि पटेल इत्यादि का योगदान रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here