व्यंकटेश मंदिर में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर हुई पूजा-अर्चना, मध्यरात्रि में मना उत्सव

0

बिलासपुर- शहर के सबसे प्राचीन व्यंकटेश मंदिर में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का पर्व भक्तिभाव के साथ बुधवार को मनाया गया। वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ ही सुबह से मंदिर में भगवान की पूजा-अर्चना की विधि प्रारंभ की गई। मध्यरात्रि में विधिवत भगवान का जन्मोत्सव मनाते हुए श्रीकृष्ण का जयघोष करते रहे।

व्यंकटेश मंदिर में भगवान का जन्मोत्सव हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी धूमधाम से मनाया गया। कोरोना संक्रमण के चलते इस बार मंदिर में भक्तों को प्रवेश नहीं दिया गया। मंदिर के बाहर प्रोजेक्टर लगाकर मंदिर में हो रहे पूजन को दिखाया गया। भक्त सुबह से ही मंदिर में दर्शन करने पहुंचते रहे। मंदिर के मठाधीश डाॅ कौशलेन्द्र प्रपन्नाचार्य के मार्गदर्शन में पूजन हुआ

शाम से ही मंदिर के अंदर पूजन विधियों को करने के बाद भगवान को अंदर रखा गया। इसके बाद भक्तों द्वारा मंदिर परिसर में ही भजन गाते हुए भगवान का स्मरण कर आहवान किया गया। भक्तों ने सामूहिक भजन गाते हुए श्रीकृष्ण जन्म के भजनों से माहौल को उत्सव में बदल दिया। हारमोनियम, मंजीरा, तबला जैसे वाद्ययंत्रों के धुनों पर भक्त भजन गाते रहे। 12 बजते ही मंदिर में उत्सव मनाया गया। भगवान का पंच द्रव्यों से अभिषेक श्रृंगार करने के बाद नए वस्त्रों से जाकर झूले में बैठाया गया।

इसके बाद भक्तों ने नंद के घर आनंद आयो जय कन्हैया लाल की कहकर बधाई गाना गाया। देर रात में मंदिर में उत्सव चलता रहा। वैदिक मंत्र, भजन व पूजन विधियों से जन्माष्टमी की विधि पूरी की गई।

प्रोजेक्टर से भगवान के किए दर्शन
मंदिर में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाने के लिए आने वाले भक्तों ने प्रोजेक्टर के माध्यम से भगवान का दर्शन किया। भक्त भगवान के दर्शन करके आनंदित हुए। मंदिर के बाहर ही लोग जयघोष करते हुए प्रभु का सुमिरन करने लगे।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here