सिंधी समाज की महिलाओं ने मनाया थदड़ी पर्व, सुख-समृद्धि के लिए की प्रार्थना

0

बिलासपुर-सिंधी समाज की महिलाओं ने सोमवार को थदड़ी पर्व बड़े श्रद्धा भाव के साथ मनाया। विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हुए माता शीतला से आशीर्वाद मांगा। परिवार के सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की। महिलाओं ने पारंपरिक सिंधी व्यंजन बनाकर भोग भी अर्पित किया। सिंधी संस्कृति के मुताबिक इस व्रत में संतान की दीर्घायु की कामना की जाती है। जिसे महिलाओं ने विधिवत पूरा किया।

सिंधी समाज की सरिता डोडवानी ने बताया कि थदड़ी का पर्व बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इस पर्व में एक दिन पहले षष्ठी की तिथि को ही घरों में तरह-तरह के पारंपरिक सिंधी व्यंजन बनाए गए। जिसमें मीठी रोटी, मीठा लोला, नमकीन रोटी, कोकी, सुखी सब्जी, भिण्डी, करेला, बैगन, दही बड़े के साथ कई तरह के पकवान तैयार किया गया। चूल्हे का पूजन कर अग्नि को शांत किया गया। दूसरे दिन सप्तमी की तिथि को घर के पुरुष सदस्यों ने सुबह किसी जल स्त्रोत जैसे नदी, तालाब, कुंए, नल पर जाकर 21 बार मटकी में जल भर कर नहाए। फिर जल देवता की विधि-विधान से पूजा-अर्चना कर भोग लगाया।

मंदिर, गुरुद्वारा अथवा किसी भी धार्मिक स्थल में पहुंचकर महिलाओं ने शीतला माता की श्रद्धा भक्ति से पूजा की। भोग अर्पित किया और माता शीतला से अपने बच्चों के दीर्घायु की कामना की। इस दौरान थदड़ी माता की कथा भी सुनकर महिलाओं ने व्रत के महत्व को समझा। पूजन में भोग लगाए पकवानों को शाम में ग्रहण कर व्रत का पारण किया। थदडी पर्व पर भाई वरियाराम दरबार शनिचरी पडाव मे सुबह से ही शीतल माता की पूजा-अर्चना के लिए एवं थदडी माता के कथा सुनने समाज की महिलाएं पहुंची।

इस अवसर सरिता डोडवानी, कोमल वाधवानी, आशा वाधवानी, निकिता डोडवानी, रोशनी साधवानी, कचन रोहडा, मीरा हरजानी, अनिता डोडवानी, बबीता मलधानी, कौशल्यादेवी जगवानी, लाजवंती खुशालानी, वर्षा वाधवानी, एकता डोडवानी, कचन ठारवानी, लता हरदवानी, आशा नागदेव, पलक डोडवानी, मजु मोहनानी, कान्ता वासवानी, सविता मलधानी,आशा चावला, ज्योति पंजाबी, कविता खुशालानी, रेशमा, ऊषा चदनानी, दीपा रामानी, सरिता आडवाणी,मंजु भोजवानी, सविता नागदेव, मजु बोदवानी, मीरा मलघानी, अनुसुइया ठारवानी, सरला नागदेव सहित बड़ी संख्या में महिलाओं ने पूजा-अर्चना की।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here