माहेश्वरी समाज की महिलाओं ने सातुड़ी कजली तीज का पर्व मनाया

0

बिलासपुर-माहेश्वरी महिला मंडल के सदस्यों ने 6 अगस्त गुरुवार को सत्तू कजली तीज का पर्व मनाया। इस दिन पूरा दिन व्रत करते हुए बड़े श्रद्धाभाव से किया। पूरे दिन व्रत के बाद शाम के समय महिलाओं ने नीमड़ी माता की पूजा-अर्चना करते हुए सत्तू का प्रसाद अर्पित किया। रात में चंद्रोदय होने के बाद महिलाओं ने अपना व्रत खोला। माहेष्वरी महिला मंडल की वरिष्ठ सदस्य किरण माहेश्वरी ने बताया कि इस व्रत को भाद्र पद के दिन मनाया जाता है।

यह राजस्थान का महत्वपूर्ण पर्व है। सुहागिन व कुंवारी कन्याएं इस व्रत को करती है। सुहागिन महिलाएं पति के दीर्घायु के लिए तो कुंवारी कन्याएं इस व्रत को अच्छा वर प्राप्त करने के लिए करती है। इस व्रत को लेकर महिलाओं में बहुत उत्साह रहता है। मान्यता है कि विवाह के बाद पहला व्रत अपने मायके में करना होता है। इस साल कोरोना व लाॅक डाउन के कारण कई बेटियां अपने मायके नहीं आ पाई और बहुएं जा नहीं पाई ऐसे में घर पर ही सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए इस व्रत को किया गया।

पूजन में 16 श्रृंगार की सामग्री अर्पित करते हुए व्रत की कथा सुनी गई। पूरे दिन झूला सजाकर झूला झूला गया साथ ही साथ दिन भर गीत गाते हुए हाथों में मेहंदी व श्रृंगार करते हुए महिलाएं आपस में हंसी-ठिठोली करती रही। शाम मे सामूकिह पूजा करते हुए व्रत पूरा किया।
घर-घर में सत्तू के व्यंजन बनाए गए। वहीं सावन के गीत गाते हुए सभी ने उत्सव मनाया। सावन के गीतों में आयो-आयो जेठ-आषाढ़ छेला मारूजी लगतोई आयो सावन भादो जी,,,,,,,आई-आई पहली सावनरी तीज छेला मारूजी बागामं हिंडे घाल देवजी,,,,जैसे कई गाने गाए गए।


पूजन के दौरान कोरोना महामारी के संकट से बचाने के लिए महिलाओं ने विशेष प्रार्थना की। इस दौरान महामृत्युंजय मंत्र का जाप सभी सदस्यों ने किया। सामूहिक जाप करने से मंत्र का प्रभाव बहुत अधिक होता है। इस वजह से अधिक से अधिक संख्या में एक ही समय में अपने-अपने घरों पर भी इस मंत्र का जाप सदस्यों ने किया। इसके बाद शाम में पर्यावरण में संतुलन बनाए रखने के लिए औषधी के पौधे लगाए गए। इसके बाद घरों में दीप जलाए गए। इस अवसर पर गीता, नीता, ममता, किरण, सोनाली, आरती, सरिता, सुजाता, शिखा, रेनू, नमिता, गिरीश, दीपिका सहित बड़ी संख्या में महिलाएं उपस्थित थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here