मोर के पंख को क्यो माना जाता है खास, जाने इस लेख में

0

मोरपंख की जब भी बात होती है तब सबसे पहले भगवान श्रीकृष्ण के मुकुट में सजे होने की कल्पना दिमाग में आती है। भगवान श्रीकृष्ण के मुकुट की शोभा मोर पंख बढ़ाता है। वहीं इसे बहुत पवित्र माना जाता है।

ऐसी मान्यता है कि मानव जीवन की बड़ी मुश्किलों को दूर करने में मोर पंख मददगार होता है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक घर में सुख-समृद्धि के लिए भी इस पंख को महत्वपूर्ण माना जाता है।

मोर पंख सिर्फ भगवान श्रीकृष्ण से नहीं बल्कि कई देवी-देवताओं से संबंधित है। इस लेख के माध्यम से हम मोर पंख से घर में होने वाले सकारात्मक बदलाव को बताएंगे।

बच्चों में सकारात्मक बदलाव लाता है

बच्चे थोड़े बहुत तो जिद्दी होते ही है। लेकिन अगर आपका बच्चा बहुत ज्यादा जिद्दी हो गया है। किसी की कोई बात नहीं मानता हो तो आप घर में मोर पंख ले आइए। इस मोर पंख से पंखा बनाकर बच्चे को हवा करे या सीलिंग पर उसे चिका दे। इसकी हवा से बच्चे में सकारात्मक बदलाव होता है।

नवजात को नहीं लगती बुरी नजर

नवजात शिशु को नजर बहुत जल्दी लग जाती है। अगर आप उसे नजर से बचाना चाहते है तो एक चांदी के ताबीज में मोर पंख भरकर बच्चे के सिरहाने पर रखे। ऐसा करने से उसे न नजर लगेगी न ही वो डरेगा।

धन-धान्य से सम्पन्न होगा घर

मोरपंख अटके हुए काम को पूरा करने में भी मदद कर सकता है। साथ ही ये आपके धन व वैभव में भी बढ़ोतरी करता है। इसके लिए एक मोरपंख को राधाकृष्ण मंदिर में स्थापित करे।

हर रोज 40 दिन तक उसकी पूजा करे। उसके बाद उसे अपने लाॅकर या जहां कीमती सामान रहते है। वहां रखे। इससे आपकी संपत्ति बढ़नी शुरू हो जाएगी।

कालसर्प दोष में भी मददगार

कुंडली में कालसर्प योग दोष अशुभ माना जाता है। इसे दूर करने के लिए अपने तकिए के कवर में 7 मोर पंख डाले। ऐसा सोमवार की रात को करे। उस तकिए पर सिर रखकर सो जाइए।

आपके सोने वाले कमरे की पश्चिम दिशा वाली दीवार पर 11 मोरपंख लगाने चाहिए। इससे कुंडली में राहू-केतू का अशुभ प्रभाव कम हो जाएगा। आप कालसर्प योग दोष से मुक्ति पा लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here