जमीन पर बैठकर भोजन करना क्यो होता है अच्छा, जाने यहां

1

पुराणों और स्मृति ग्रंथों के मुताबिक जमीन पर आसन बिछाकर बैठकर खाना खाने को उत्तम बताया गया है। इसके कई फायदे भी बताए गए है।

मार्कडेय पुराण, महाभारत, ब्रम्ह पुराण व कूर्म पुराण में बताया गया है कि नीचे बैठकर खाना खाने से सेहत अच्छी रहती है और उम्र भी बढ़ती है।

आयुर्वेदिक डाॅक्टर व वरिष्ठ नाड़ी वैद्य डाॅ.अभिषेक सिंह ठाकुर के मुताबिक इंसान की नाभि में जठराग्नि होती है। जमीन पर बैठकर खाना खाने से जठराग्नि तेज हो जाती है। जमीन पर बैठकर भोजन करने से खाना जल्दी पच जाता है। इस तरह से बैठकर खाए गए खाने का पूरा फायदा शरीर को मिलता है।

डाॅ.अभिषेक बताते है कि खड़े होकर या कुर्सी पर बैठकर खाना खाते वक्त गुरुत्वाकर्षण बल से खाना तेजी से पेट में जाता है। जिससे शरीर खाने का रस और एंजाइम्स ठीक से नहीं ले पाता है।

इसके उलट जब सुखासन यानी पालथी लगाकर खाना खाते है तो जिस तरह से पैर मोड़े जाते है उससे गुरुत्वाकर्षण बल कम हो जाता है और खाना धीरे-धीरे पेट के सभी हिस्सों से होकर गुजरता है।

जिससे शरीर को उस खाने से ताकत मिलती है। शायद इसलिए ही विद्वानों ने जमीन पर बैठकर खाना खाने की परंपरा बनाई होगी।

नीचे बैठकर खाना खाने के फायदे

जमीन पर बैठकर खाना खाने का मतलब सिर्फ भोजन करने से नहीं है। जब जमीन पर बैठकर भोजन करते है तो उस तरीके को सुखासन की तरह देखा जाता है। इस आसन में खाना खाना सेहत के नजरिए से बहुत ही फायदेमंद है।

इस आसन में बैठकर खाना खाने से मानसिक तनाव भी दूर होता है।

इस तरह बैठकर भोजन करने से पाचन क्रिया अच्छी रहती है। मोटापा, अपच, कब्ज, एसिडिटी आदि पेट की बीमारियां नहीं होती है और मन शांत रहता है।

जमीन पर बैठने के लिए घुटने मोड़ने पड़ते है। इससे घुटनों का भी बेहतर व्यायाम हो जाता है।

इस तरह बैठने से हड्डियों में मौजूद हवा यानी वात निकल जाती है।

इससे शरीर में रक्त का संचार बेहतर होता है और भोजन भी जल्दी पच जाता है। जिससे हृदय को भी कम मेहनत करनी पड़ती है।

पैर मोड़कर बैठने से आपकी शारीरिक मुद्रा में सुधार होता है। इससे मांसपेशियों को भी मजबूती मिलती है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here