भगवान गणेश को प्रसन्न करने दूर्वा क्यो आवश्यक है, जाने कारण

8

भगवान गणेश की पूजा में आप चाहे 56 भोग अर्पित करे या फिर महंगे से महंगी पूजन सामग्री उन्हें प्रसन्न करने का एक सबसे सरल उपाय है। उन्हें दूर्वा अर्पित करना। मान्यता है कि भगवान गणेश को दूर्वा अर्पित करने मात्र से ही वे प्रसन्न हो जाते है। जो भी भक्त दूर्वा अर्पित करता है प्रथम पूज्य गणेश की कृपा प्राप्त करता है। दूर्वा आखिर भगवान गणेश को क्यों पसंद है इस पर ही यह लेख है। इसके माध्यम से हम आपको इसके पीछे छिपे कारण को बताएंगे।

० क्या है दुर्बा
दुर्बा यानी की हरी दूब एक प्रकार की घास है। जो गणपति पूजन में भगवान गणेश को अर्पित की जाती है। दूर्वा चढ़ाने से गणेश जी जल्दी प्रसन्न हो जाते है। हरी दूर्वा भगवान को बहुत प्रिय है।
० एक मात्र देव जो दूर्वा पसंद करते है
समस्त देवी-देवता की पूजा में तुलसी अर्पित की जाती है। लेकिन श्री गणेश ही एक मात्र देव है जो तुलसी को नहीं दूर्वा को प्रसन्न करते है। अन्य किसी देव को दूर्वा अर्पित नहीं किया जाता है।


० दूर्वा को पसंद करने का है यह कारण
पुराणों में दी गई जानकारी के मुताबिक प्राचीन काल में अनलासुर नाम का एक दैत्य था। इस दैत्य के कोप से स्वर्ग और धरती पर त्राही-त्राही मची हुई थी। अनलासुर ऋषि-मुनियों और आम लोगों को जिंदा निगल जाता था। दैत्य से त्रस्त होकर देवराज इंद्र सहित सभी देवी-देवता और ऋषि मुनि महादेव से प्रार्थना करने पहुंचे। सभी ने भगवान शंकर से प्रार्थना की कि वे अनलासुर के आतंक का नाश करे। शिवजी ने सभी देवी-देवताओं और ऋषि-मुनियों की प्रार्थना सुनकर कहा कि अनलासुर का अंत केवल श्री गणेश ही कर सकते है। जब श्री गणेश ने अनलासुर को निगला तो उनके पेट में बहुत जलन होने लगी। कई प्रकाश के उपाय करने के बाद भी गणेश जी के पेट का जलन शांत नहीं हो रही थी। तब कश्यप ऋषि ने दूर्वा की 21 गांठ बनाकर श्री गणेश को खाने को दी। जब गणेश जी ने दूर्वा ग्रहण की तो उनके पेट की जलन शांत हो गई। तभी से श्री गणेश को दूर्वा चढ़ाने की परंपरा शुरू हुई।


० औषधि भी है दुर्बा
दूर्वा सिर्फ घास नहीं है बल्कि यह एक औषधि की तरह है। पेट में जलन तथा पेट के रोगों के लिए दूर्वा औषधि का कार्य करती है। मानसिक शांति के लिए यह बहुत लाभप्रद है। यह विभिन्न बीमारियों में एंटिबायोटिक का काम करती है। साथ ही इसे देखने और छू ने से भी मानसिक शांति मिलती है और जलन शांत हो जाता है।

० बुधवार को अवश्य करे दूर्वा अर्पित
बुधवार का दिन भगवान गणेश की पूजा का खास दिन माना गया है। इस दिन जो भी भक्त भगवान गणेश को दूर्वा अर्पित करता है तो उससे भगवान गणेश प्रसन्न होते है। जिनको गणपति की विशेष कृपा चाहिए होती है वे दूर्वा की माला भी अर्पित करते है।

8 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here