सूर्य ग्रहण शुरू होने से समाप्त होने तक क्या करे, क्या न करे

9

बिलासपुर.मान्यताओं के अनुसार गर्भवती महिलाओं को ग्रहण और सूतक काल के समय सब्जी काटना, कपड़े सिलना जैसे कामों को करने से बचना चाहिए। यानी किसी भी धारदार वस्तुओं का इस्तेमाल ग्रहण काल में न करे। इससे होने वाले बच्चे को शारीरिक दोष होने की संभावना होती है।

  • ग्रहण काल में क्या न करे
  • ग्रहण के समय तेल लगाना, भोजन पकाना और खाना, सोना, बाल बनाना, संभोग करना, दांत साफ करना, कपड़े धोना, ताला खोलना जैसे काम नहीं करने चाहिए।
  • ग्रहण के समय कोशिश करे कि घर से बाहर न निकले और न ही ग्रहण को देखे। खासकर गर्भवती महिलाएं इस बात का विशेष तौर पर ध्यान रखे।
  • मान्यता है कि ग्रहण के समय जो व्यक्ति जितने अन्न के दाने खाता है। उतने वर्षों तक उसे नरक में वास करना पड़ता है। बूढ़े, बालक और रोगी खा सकते है।
  • ग्रहण काल में भगवान की मूर्तियों को न तो छूना चाहिए और न ही पूजा-पाठ करना चाहिए। ग्रहण का सूतक काल लगते ही कई मंदिर के कपाट भी बंद कर दिए जाते है।
  • ग्रहण काल में क्या करे
  • ग्रहण काल में गुरु मंत्र का जाप, किसी मंत्र की सिद्धी रामायण, सुंदरकांड का पाठ आदि कर सकते है।
  • ग्रहण की समाप्ति के बाद पवित्र नदियों में या फिर घर में ही नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान कर लेना चाहिए।
  • सूतक काल लगने से पहले ही खाने-पीने की वस्तुओं में तुलसी के पत्ते डालकर रख देने चाहिए।
  • यदि घर में मंदिर है तो सूतक लगते ही उसे ढक देना चाहिए। मान्यता है कि ग्रहण के बाद दान-पुण्य करना चाहिए।

9 COMMENTS

  1. बहुत अच्छी जानकारी है इसका लाभ हर वर्ग के लोगों को मिलेगा

  2. आपके द्वारा दी गर्इ जानकारी बहुत लाभदायक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here