विद्यादायिनी मां सरस्वती नाराज न हो, रखे इन बातों का ध्यान

0

सनातन धर्म में बसंत पंचमी या श्रीपंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा-अर्चना का विधान माना गया है। मान्यता है कि इस दिन देवी सरस्वती का जन्म हुआ था। इसलिए हिंदुओं की इस पर्व में गहरी आस्था है।

ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद मनोज तिवारी ने बताया कि इस दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी विशेष महत्व माना गया है। साथ ही कुछ ऐसे भी बातें है जिन्हें लेकर सतर्कता बरतने की भी सलाह दी जाती है। इस लेख के माध्यम से हम सरस्वती पूजा के दिन कौन सा कार्य न करे इसकी जानकारी देंगे।

काले रंग के कपड़े पहनने से बचे

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा का विशेष महत्व होता है। इसलिए इस दिन भूलकर भी काले रंग के वस्त्र नहीं पहनने चाहिए। इसके अलावा जिनसे भी आप ज्ञान प्राप्त करते है उनका और अपनी शिक्षा का भूलकर भी अपमान न करे।

किसी भी पेड़-पौधे को न पहुंचाएं हानि

बसंत पचंती का पर्व फसल व हरियाली का होता है। इसलिए इस दिन किसी भी तरह का पौधा या पेड़ तोड़ने और काटने से बचे। इसके अलावा ध्यान रखने कि इस दिन घर परिवार हो या कार्यक्षेत्र किसी भी तरह के वाद-विवाद और क्लेश में न पड़े। अन्यथा मां सरस्वती नाराज हो जाती है।

कुंभ के मेले से जुड़ी खास बातें, जाने विस्तार से पौराणिक कथा

तामसिक भोजन का करे त्याग

बसंत पंचमी के दिन पूजा करते हो या नहीं करते हो लेकिन एक बात का ध्यान जरूर रखे। इस दिन भूलकर भी तामसिक भोजन का सेवन न करे। साथ ही मांस-मंदिरा से भी परहेज करे। इसके अलावा बसंत पंचमी पर ब्रम्हचर्य का पालन जरूर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here