विजयादशमी के अवसर पर जाने रावण के पूरे परिवार के विषय में, यहां

3

रावण को राक्षसराज के तौर पर जाना जाता है। परमज्ञानी व महापंडित था। उसकी विशाल सेना थी और उसने कई युद्ध लड़े थे। भगवान राम ने उसका वध कर दिया था। विजयादशमी के अवसर पर इस लेख के माध्यम से हम रावण के पूरे परिवार के विषय में बताएंगे।

रावण के माता-पिता

ऋषि विश्वश्रवा ने ऋषि भारद्वाज की पुत्री इलाविदा से विवाह किया था। जिनसे कुबे का जन्म हुआ। विश्वश्रवा की दूसरी पत्नी कैकसी से रावण, कुंभकरण, विभिषण और सुर्पणखा पैदा हुई थी।

रावण के छह भाई

कहते हैं कि रावण के छह भाई थे जिनके नाम थे कुबेर, विभिषण, कुंभकरण, अहिरावण, खर और दूषण। खर, दूषण, कुम्भिनी, अहिरावण और कुबेर रावण के सगे भाई बहन नहीं थे।

रावण की दो बहने

रावण की दो बहने थी। एक सुर्पणखा और दूसरी कुम्भिनी थी। जो कि मथुरा के राजा मधु राक्षस की पत्नी थी और राक्षण लवणासुर की मां थी।

कुबेर को बेदखल कर रावण के लंका में जम जाने के बाद उसने अपनी बहन सुर्पणखा का विवाह कालका के पुत्र दानवराज विद्युविह्वा के साथ कर दिया था।

रावण की पत्नियां

वैसे तो रावण की दो पत्नी मानी जाती है लेकिन उनकी तीसरी पत्नी का भी जिक्र कहीं-कहीं पर होता है। लेकिन उसका नाम अज्ञात है। रावण की पहली पत्नी का नाम मंदोदरी था। जो कि राक्षस मयासुर की पुत्र थी।

दूसरी पत्नी का नाम धन्यमालिनी था। ऐसा कहा जाता है कि रावण ने अपनी तीसरी पत्नी की हत्या कर दी थी। दिति के पुत्र मयासुर की कन्या मंदोदरी उसकी मुख्य रानी थी जो हेमा नामक अप्सरा के गर्भ से उत्पन्न हुई थी।

रावण के बच्चे

मंदोदरी से रावण को जो पुत्र मिले उनके नाम है अक्षयकुमार, मेघनाद, महोदर, प्रहस्त, विरूपाक्ष, भीकमवीर। कहते है कि धन्यमालिनी से अतिक्या और त्रिशिरार नामक दो पुत्र जन्में जबकि तीसरी पत्नी के प्रहस्था, नरांतका और देवताका नामक पुत्र थे।

रावण के दादा-दादी

दादा का नाम पुलस्त्य और दादी का नाम हविर्भुवा था। अन्य रिश्तेदार रावण के अन्य रिश्तेदारों में मारीच और सुबाहू यह दोनों उनके मामा थे और सुंड एवं ताड़का के पुत्र थे।

सरमा विभिषण की पत्नी थी और उसकी बेटी का नाम त्रिजटा था। वज्रज्वाला कुंभकर्ण की पत्नी थी। सुलोचना मेघनाद की पत्नी थी।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here