इस महीने 3 ग्रह कर रहे है राशि परिवर्तन, जाने कैसा होगा महीने का राशिफल

0

वर्ष 2021 में जनवरी व फरवरी के बाद मार्च माह में भी ग्रहों का राशि परिवर्तन हो रहा है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक ग्रहों के राशि परिवर्तन से मनुष्य के जीवन में प्रभाव पड़ता है अच्छे व बुरे दोनों तरह के फल मिलते है।

ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद मनोज तिवारी ने बताया कि इस महीने सूर्य कुंभ से मीन राशि में प्रवेश करेंगे। वहीं बुध और शुक्र अपनी राशि से दूसरे राशि में गोचर करेंगे। इन ग्रहों के राशि परिवर्तन से सभी राशियों पर प्रभाव पड़ेगा। मार्च माह में राशि परिवर्तन के प्रभाव राशिफल के माध्यम से बता रहे है।

मेष-मार्च माह के प्रारंभ में धैर्यशीलता में कमी हो सकती है। बातचीत में संतुलन बनाए रखे। व्यर्थ के वाद-विवाद से बचे। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखे। 11 मार्च के बाद नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते है। उच्च पद की प्राप्ति हो सकती है। शासन-सत्ता का सहयोग मिलेगा। परंतु पारिवारिक सुख में कमी आ सकती है।

वृषभ-महीने के शुरू में क्षणे रूष्टा क्षणे तुष्टा की मनः स्थिति हो सकती है। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते है। मान सम्मान में वृद्धि होगी। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों में सफलता मिलेगी। परंतु आत्मसंयत रहे। 11 मार्च के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय के साधन बन सकते है।

मिथुन-दस मार्च तक मन परेशान रहेगा। रहन-सहन अव्यवस्थित रहेगा। कारोबार में परेशानियों रहेंगी। 11 मार्च से परिस्थितियों में सुधार होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। मन प्रसन्न रहेगा। 15 मार्च से शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। 17 मार्च से वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। वस्त्रों पर खर्च बढ़ सकता है।

कर्क-मानसिक शांति रहेगी। पठन-पाठन में रूचि रहेगी। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। लेखन आदि कार्यों में सफलता मिलेगी। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। 12 मार्च के बाद कारोबार में कुछ परेशानियां आ सकती है। 15 मार्च से धन की स्थिति में सुधार होगा। परंतु परिश्रम अधिक रहेगा। 17 मार्च से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा।

सिंह-मास के प्रारंभ में आत्मविश्वास से भरे रहेंगे। परंतु 15 मार्च से आत्मविश्वास में कमी रहेगी। संयत रहे। क्रोध के अतिरेक से बचे। आर्य की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार में लाभ के अवसर मिलेंगे। 17 मार्च के बाद पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखे। कार्यक्षेत्र में भी व्यवधान आ सकते है।

कन्या-इस महीने मन प्रसन्न रहेगा। आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। परंतु 12 मार्च के बाद मन परेशान रहेगा। पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखे। 17 मार्च से नौकरी की स्थिति में सुधार होगा। धीरे-धीरे खर्च में कमी आएगी। साथ ही स्वास्थ्य का ध्यान रखे। क्रोध से बचे। परिवार की किसी महिला से धन की प्राप्ति हो सकती है।

तुला-महीने के शुरूआत में आत्मविश्वास भरा रहेगा। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान पर जा सकते है। पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखे। 15 मार्च से आए में कठिनाइयां आ सकती है। खर्चों में वृद्धि होगी। 17 मार्च से मन परेशान रहेगा। वाहन सुख में कमी आ सकती है। कारोबार की स्थिति मजबूत रहेगी। विस्तार पर खर्च भी हो सकता है।

वृश्चिक-आत्मविश्वास इस महीने अधिक रहेगा। नौकरी में तरक्की के योग बनेंगे। कार्य का विस्तार होगा। 15 मार्च के बाद धैर्यशीलता बनाए रखने का प्रयास करे। नौकर में अफसरों से वाद-विवाद से बचे। 17 मार्च के बाद वाहन सुख में वृद्धि होगी। वस्त्र उपहार प्राप्त हो सकती है। परिवार का साथ मिलेगा।

मार्कशीट लेने भटक रहे नेत्रहीन छात्र की यूथ संस्कार फाउंडेशन ने किया सहयोग

धनु-मन अशांत रहेगा। आत्मविश्वास में कमी रहेगी। 12 मार्च से कारोबार की स्थिति में सुधार हो सकता है। 15 मार्च से दिनचर्या अव्यवस्थित हो सकती है। परिवार में व्यर्थ के आपसी वाद-विवाद से बचे। 17 मार्च के बाद वाहन सुख की प्राप्ति के योग बन रहे है। किसी मित्र का आगमन हो सकता है। आय में सुधार होगा।

मकर-आत्मविश्वास तो भरपूर रहेगा। परंतु आलस्य भी रहेगा। कारोबार में वृद्धि होगी। 15 मार्च से कारोबार में परिश्रम अधिक रहेगा। किसी संपत्ति से धन की प्राप्ति हो सकती है। भाई-बहनों का साथ रहेगा। किसी मित्र से नए कारोबार का प्रस्ताव मिल सकता है। लाभ में वृद्धि होगी। वाणी के प्रभाव से रूके हुए कार्य पूर्ण होंगे।

कुंभ-महीने के प्रारंभ में खुद को वश में रखे। अपनी भावनाओं को भी कंट्रोल में रखे। 12 मार्च संतान के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार को गति मिलेगी। 15 मार्च से बातचीत में संतुलित रहे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ध्यान रखे। 17 मार्च के बाद माता से धन की प्राप्ति हो सकती है।

मीन-इस महीने मानसिक शांति रहेगी। परंतु खर्चों की अधिकता से परेशान भी हो सकते है। 12 मार्च से परिवार की समस्याएं भी परेशान कर सकती है। 15 मार्च से धैर्यशीलता में कमी आ सकती है। परिवार में आपसी वाद-विवाद से बचे। कार्य क्षेत्र में सुधार भी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here