बदलने वाली है शनि की चाल, जाने किन राशियों पर पड़ेगा प्रभाव

The movement of Saturn is going to change, knowing which will affect the zodiac signs
बदलने वाली है शनि की चाल, जाने किन राशियों पर पड़ेगा प्रभाव

ग्रहों के गोचर व राशि परिवर्तन का सिलसिला लगातार चलता रहता है। लेकिन शनि एक ऐसे ग्रह है जिनका गोचर अन्य ग्रहों की तुलना में अधिक समय तक का रहता हैं इस महीने शनि भी अपनी चाल बदलने वाले है। ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद मनोज तिवारी के मुताबिक 23 मई से शनि की उल्टी चाल शुरु होगी। इसे ज्योतिषशास्त्र में बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है।

शनि को लोग बहुत क्रूर ग्रहों में से एक मानते है। हर बार ऐसा नहीं होता है शनि अपने कर्मों के अनुसार ही लोगों को फल प्रदान करते है। शनि सबसे मंद गति से चलने वाले ग्रह है। कहा जाता है कि ये कम से कम ढाई वर्षों तक एक ही राशि में गोचर करते है वो वक्री से मार्गी और मार्गी से वक्री भी होते है। इस बार शनि के चाल बदलने से इन राशियों पर विशेष प्रभाव पड़ेगा।

धनु-इस राशि के जातकों पर शनि की साढ़े साती चल रही है। हालांकि ये अपने अंतिम चरण में है। 23 मई से जब शनि वक्री हो जाएंगे तो धनु राशि वाले जातकों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। जिससे की उन्हें नुकसान हो सकता है। 29 अप्रैल 2022 को शनिदेव मकर से कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे और इसके बाद धनु राशि वाले जातकों पर से साढ़े साती पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा। ऐसा होते ही उनकी सभी तरह की परेशानी स्वतः ही समाप्त हो जाएगी।

मकर-इस समय शनि ग्रह मकर राशि में ही स्थित है। लेकिन 23 मई से उल्टी चाल चलने के बाद मकर राशि वाले जातकों की नौकरी और सेहत पर प्रभाव पड़ सकता है। मकर राशि वालों को बहुत लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। मकर राशि वाले जातकों की साढ़े साती 2025 में समाप्त होगी।

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक जिस राशि में शनि की ढैया चलती है। उस राशि से एक राशि पहले और एक राशि बाद साढ़े साती का प्रभाव रहता है। ऐसे में तीन राशि पर शनि की साढ़े साती ढ़ाई-ढ़ाई साल का प्रभाव रहेगा। वहीं शनि जब मीन राशि में गोचर करेंगे उसके बाद ही मकर राशि के जातकों को शनि की साढ़े साती के प्रभाव से पूरी तरह से मुक्ति मिल पाएगी।

कुंभ-ज्योतिष गणना के मुताबिक कुंभ राशि वाले जातकों पर शनि की साढ़े साती के प्रभाव का पहला चरण इस समय चल रहा है। इस राशि के स्वामी शनि स्वयं है। अगर शनि वक्री होते है तो कुंभ राशि के जातकों के काम में कुछ हद तक गिरावट देखी जा सकती है। लेकिन अगर कुंडली में वक्री शनि शुभ स्थिति में है तो इस समय अनुकूल फल की प्राप्ति हो सकती है। अगर ये स्थिति अशुभ हुई तो आपको कई तरह की बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here