महाशिवरात्रि का पर्व महर्षि दयानंद सरस्वती के बोधोत्सव के रूप में, किया गया हवन-पूजन

0

महाशिवरात्रि का पर्व आर्य समाज की ओर से महर्षि दयानंद सरस्वती के बोधोत्सव के रूप में गुरुवार को मनाया गया। इस अवसर पर सुबह 8 बजे महर्षि दयानंद सरस्वती चैक अशोक नगर सरकण्डा में यज्ञ, भजन व प्रवचन के बाद प्रसाद वितरण किया गया।

महाशिवरात्रि का पर विशेष रूप से कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए समर्पित करते हुए अनुष्ठान किया गया। इसमें औषधियुक्त पदार्थों गिलोय, जायफल, जायपत्री, दाल चीनी, लौंग, इलायची, गुग्गुल, नारियल, कपूर, गुड़, शहद, धूप, जौ, तिल, उड़द तथा विविध जड़ी बूटी युक्त हवन सामग्री एवं गाय के घी से वेद मंत्रोच्चारण करते हुए हवन में आहूति दी गई।

हवन के बाद रूपचंद जीवनानी, सुधीर गुप्ता, संध्या शर्मा ने ईश्वर भक्ति एवं ऋषि दयानंद के उपकारों से संबंधित भजन एवं गीत प्रस्तुत किया। समाज के पुरोहित पंडित जयदेव शास्त्री ने दयानंद जी के साथ महाशिवरात्रि को घटित घटना का विस्तृत वर्णन करते हुए दयानंद जी के सच्चे शिव के बोध को संपूर्ण मानव जाति के लिए अनुपम सौगात बताया।

उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि अष्टांग योग ही ईश्वर प्राप्ति का एक मात्र मार्ग है। दयानंद जी को सच्चे शिव के बोध होने पर उन्होंने न सिर्फ धार्मिक, आध्यात्मिक क्षेत्र में मानव जाति का पथ प्रदर्शक का कार्य किया बल्कि सांस्कृतिक एवं सामाजिक क्षेत्र भी अनेकानेक सुधार के कार्य किए जो हमस ब के लिए वरदान है। षांति पाठ एवं वैदिक जयघोष के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।

इसके बाद ऋषि गाथा भजन के साथ प्रसाद वितरण का कार्यक्रम दोपहर तक चलता रहा। इस अवसर पर आर्य समाज के संरक्षण रूपचंद जीवनानी, सुभाष बत्रा, निर्मला देवी गुप्ता, प्रधान ज्योतिर्मय आर्य, उपप्रधान सुधीर गुप्ता, सुदर्शन जायसवाल, मंत्री विनय गुप्ता, कोषाध्यक्ष गोपालदास चावल, वरिष्ठ सदस्य पंडित हनुमान प्रसाद पांडे, नंदकुमार, दुखभंजन, रोशन, पुष्कर, अश्वनी जायसवाल, सत्यकाम गुप्ता, सुयश गुप्ता, अरूण कुमार सोनी, चितरंजन शास्त्री, देवमन सिंह महिला इकाई प्रमुख शैल गुप्ता, सीमा गुप्ता, शालिनी गुप्ता, रजमत, अनुपमा, मीरा, अनन्या जायसवाल, अंजली साहू, रत्ना तिवारी सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here