सिंधु कल्चर एलाइंस फोरम ने दी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी को श्रद्धांजलि

संस्था के संरक्षक डा. रमेश कलवानी के पिता स्व. डा. दयाराम कलवानी को आज संस्था ने भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी। संस्था के अध्यक्ष डॉक्टर हेमंत कलवानी ने कहां की डॉक्टर दयाराम कलवानी सिंधी समाज के गौरव थे दो बार राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री के द्वारा सम्मानित हुए थे।

गोवा मुक्ति संग्राम आंदोलन में बहादुरी के साथ लड़ाई में भाग लिया और घायल हुए थे। डॉक्टरी पेशे में भी निःस्वार्थ गरीबों की सेवा करते थे कई निशुल्क शिविर लगाए गए। गरीबों का फ्री इलाज भी करते थे। पूज्य सिंधी पंचायत चकरभाठा के संरक्षक भी थे। समाजसेवी भी थे ऐसे अनमोल रत्न को आज हमने खो दिया, इसकी भरपाई होना बहुत मुश्किल है।

संस्था के संरक्षक नानक पंजवानी ने भी श्रद्धांजलि में दो शब्द कहे कि डॉ.दयाराम कलवानी जैसे बहुत कम लोग होते हैं जो अपने लिए नहीं दूसरों के लिए जीते हैं सरल स्वभाव और हंसमुख व्यक्तित्व के धनी थे खुद तो डॉक्टर से अपने बेटे बेटी पोते को भी डॉक्टर बनवाया और सब को एक ही मंत्र दिया मानव सेवा ही परम धर्म है।

उनका यूहीं चले जाना समाज के लिए अपूरणीय क्षति है जिसकी भरपाई करना बहुत मुश्किल है। हम ईश्वर से प्रार्थना करेंगे कि उनकी आत्मा को अपने चरणों में स्थान दे और उनके परिवार वालों को यह दुख सहने की शक्ति दे। इस अवसर पर संस्था के अन्य सदस्यों ने भी अपनी ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की।

जिनमें अशोक हिंदूजा,नरेंद्र नागदेव, टेकचंद वाधवानी, लक्ष्मण दयलानी, प्रकाश जज्ञासी, सतीश लाल, जगदीश जज्ञासी, श्री चंद दयालानी, रेवाचंद रेलवानी, राम सुखीजा, अमर चावला, अमर पमनानी आदि अन्य सदस्य उपस्थित थे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here