श्री राम विवाह भजन के लिरिक्स…डाल रही वरमाला अब तो जानकी

0

डाल रही वरमाला अब तो जानकी,

दोहा-धनुष तोड़ा शिव जी का,

श्री राम जी ने,

जनक नंदनी मन में हर्षा गई है,

विधाता मेरी पूर्ण की कामनाएं,

खुशी की सुहानी घड़ी आ गई है।

डाल रही वरमाला अब तो जानकी

जय बोलो जय बोलो सीताराम की,

फूलों की बारिश यहां पे हो रही,

कृपा हो गई आज श्री भगवान की,

डाल रही वरमाला अब तो जानकी,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की।

तर्ज-दूल्हे का सेहरा।

अब जनकी की पूर्ण अभिलाषा हुई सारी,

मिट गया संताप जबसे दिल में था भारी,

डाल वरमाला सिया ने राम पाए है,

आज सखियों ने भी मंगल गीत गाए है,

महीमा अपरंपार इनके नाम की,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की,

डाल रही वरमाला अब तो जानकी,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की।।

वेद मंत्रों की ध्वनि अब गूंजने लगी,

इस खुशी में देवीयां सब झुमने लगी,

आज शुभ दिन हम सभी के जीवन में आया,

सियाराम के नाम से हर दिल है मुस्काया,

हेमा रामायण है स्वाभिमान की,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की,

डाल रही वरमाला अब तो जानकी,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की।।

डाल रही वरमाला अब तो जानकी,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की,

फूलों की बारिश यहां पे हो रही,

कृपा हो गई आज श्री भगवान की,

डाल रही वरमाला अब तो जानकी,

जय बोलो जय बोलो सीताराम की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here