कोरोना की दूसरी लहर, बार-बार बदल रहा लक्षण

0

कोरोना (Covid-19)खत्म होगी यह सोचकर लोग अपनी दिनचर्या को सामान्य करने में लगे हुए थे। लेकिन कोराना की दूसरी लहर चलने लगी है। जो ज्यादा भीषण व खतरनाक है। कोविड-19 के नए लक्षण देखने को मिल रहे है। जिसमें सुनने की क्षमता भी कम हो सकती है। इसके नए लक्षण है जो इस लेख में हम बता रहे है।

कोरोना वायरस(Corona virus) से लड़ते हुए देश को एक साल से भी ज्यादा का समय हो चुका है। इस दौरान न सिर्फ वायरस बदल रहा है बल्कि प्रभावित व्यक्ति में दिखने वाले लक्षणों में भी अंतर देखा जा रहा है। कोविड-19 के आम लक्षणों में बुखार, थकान, स्वाद और गंध न पता चलना तो शामिल है।

साथ ही अब बढ़ते मामलों और वायरस पर लगातार हो रही रिसर्च व अध्ययन के आधार पर कोरोना वायरस के कुछ नए लक्षण सामने आए है जो पेट, आंख और कान को प्रभावित कर रहे है। चाइना में हुई स्टडी के मुातबिक पिंक आईज या आंख आना भी कोविड-19 (Covid-19)संक्रमण का लक्षण हो सकता है।

इससे आंखे लाल हो जाती है और सूजन बढ़ने के साथ ही आंखों से पानी आने लगता है। अध्ययन में शामिल सभी संक्रमित प्रतिभागियों में से जिन 12 में वायरस का नया स्ट्रेन पाया गया। उनमें भी पींक आईस लक्षण देखने को मिला। इन सभी के टेस्ट के लिए नोज और आइज स्वाब का इस्तेमाल किया गया था।

आंखों और कोविड-19 के बीच दिखने वाले इस संबंध को लेकर अब तक यही समझा जा सकता है कि आंख यदि वायरस के संपर्क में आती है तो उसके जरिए ये फेफड़ों तक पहुंच जाता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक शरीर में ये वायरस आंखों में मौजूद Ocular mucous membrane के कारण प्रवेश कर पाता है और तेजी से फैलता है। हालांकि इससे देखने की क्षमता पर असर पड़ता है या नहीं इस बारे में अभी और भी अध्ययन व शोध किए जा रहे है।

सुनाइ्र देना बंद होना या फिर कान में रिंगिंग साउंड आना भी कोरोनावायरस के गंभीर लक्षण हो सकते है। इंटरनेशनल जर्नल अॅाफ अॅाडियोलॅाजी (International Journal of Audiology)में प्रकाशित स्टडी के मुताबिक कोविड-19 (Covid-19)श्रवण संबंधी समस्याओं को जन्म दे सकता है।

एक या दोनों कानों में रिंगिंग साउंड या आवाज गूंजना टिनिटस कहलाता है। ये थोड़े समय या फिर लंबे समय तक बना रह सकता है। कान में अंदर बनने वाली ये ध्वनि बहरेपन का भी लक्षण होता है। जर्नल के मुताबिक संक्रमित लोगों में से कुछ ने थोड़े वक्त के लिए पूरी तरह से सुनने की क्षमता खो देने का अनुभव किया।

स्टडी के अनुसार कोविड प्रभावितों में से करीब 7.6 प्रतिशत लोगों ने किसी ने किसी रूप में सुनने की क्षमता से जुड़ी समस्या का सामना किया। कोविड-19 शरीर के ऊपरी हिस्सों के अंगों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। जिससे कई लोग पेट में होने वाली समस्या के इससे नहीं जोड़ते।

आपको यह चैंका सकता है लेकिन कई मामलों में उल्टी और दस्त भी कोरोना संक्रमण के लक्षण हो सकते है। एक बार फिर कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच मेडिकल साइंस एक्सपट्र्स ने लोगों को चेताया है कि वे इन लक्षणों को भी हल्के में न ले। स्टडीज के मुताबिक कोविड-19 रेस्पिरेटरी सिस्टम के साथ ही किडनी, लिवर और आंतों को भी प्रभावित कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here