रोटी बैंक बिलासपुर का किया गया सम्मान , 2018 से शुरू हुई ये टीम भूखों को खिलाती है खाना

0

रखी। जो आज तक निरंतर है, इमरजेंसी समय को छोड़ दे तो लगभग प्रतिदिन इनकी टीम जरूरतमंद असहाय और गरीबों को भोजन कराती है। इसी माध्यम से इस टीम की शुरूआत पांच लोगों ने की राहुल शर्मा, रितेश शर्मा चीकू, संजय यादव, राजेश मनवानी, दीपा यादव ने शुरू की थी। अब इनके साथ टीम में काफिला बढ़ता चलता गया। जिसमें शहर के विजय हिंदुजा, चकरभाठा जैसे समाज हित के लिए जूझने वाले युवाओं का साथ मिला।

जितेन्द्र गुप्ता, अर्जुन सिंह, मुकेश शर्मा ऐसे और भी सभी लोग आपस में मिलकर सहयोग करतें व जुडते चले गए। इन युवाओं के साथ युवतियों ने भी कदम से कदम मिलाकर लोगों की सेवा कर रही है। सबसे खास बात यह है कि इस टीम को प्रसाशन व सरकार से कोई मदद नहीं मिलती। लेकिन इस टीम के प्रत्येक सदस्य आपस में ही एक दुसरे से सहयोग राशि लेकर इस कार्य को अंजाम देते हैं।

साथ ही साथ अगर किसी के घर खुशियाँली, शादी बर्थडे, तेरहवीं जैसे काम होते है तो रोटी बैंक को अपने तरफ से गरीबों को खाना के लिए सहयोग करतें हैं।

शुरुआत में सबसे पहले इस टीम के लोग रेलवे स्टेशन पहुंचकर वहां भूखे लोगों को फ्री में खाना खिला रहे थे। जो अब रेलवे स्टेशन के साथ शहर के सिम्स अस्पताल व आसपास के जरूरतमंद गरीबों के उनके ही जगहों पर पहुंचकर खाना बांटते हैं। इन युवाओं की खासियत क्या है कि दिन भर यह अपने ड्यूटी में रहते हैं।

ड्यूटी खत्म होने के बाद रात में अपने पुनीत कार्य में लग जाते हैं। इस रोटी बैंक बिलासपुर के मुखिया राहुल शर्मा पेशे से इंजीनियर है। इस टीम के सभी सदस्य कोई नौकरी पेशा है कोई बिजनेस करने वाले है।

सभी सदस्य अपने ड्यूटी करने के बाद शाम को घर आते हैं। ये घर पर कुछ समय परिवार के साथ समय बिताने के बाद रात 8 बजे से अपने पुनीत कार्य को करने के लिए, भूखे लोगों को तलाश करने के लिए जुट जाते हैं।

ये टीम भूखे, गरीब, लाचार, बिमार, दिव्यान्ग और बुजुर्गों को भर पेट खाना देते है।रेलवे स्टेशन से शुरूआत हुआ। ये टीम रोटी बैंक को अगर शासन प्रसाशन की मदद मिले तो निश्चित ही भूखों की पेट भरने के लिए बहुत बड़ा योगदान होगा। वर्तमान में सरकार के नियमों का पालन करतें हुए भूखों को भोजन करा रहें हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here