एक शाम हरि कीर्तन के नाम, कालीबाड़ी राजकिशोर नगर में हुआ कार्यक्रम

0

बिलासपुर. सत्संग का आयोजन कालीबाड़ी मंदिर कल्याण बाग ग्राउंड में राजकिशोर नगर बिलासपुर में आयोजित किया गया। सत्संग शाम 6 बजे आरंभ हुआ जिसका समापन रात को 8 बजे हुआ।

बाबा आनंद राम दरबार चकरभाटा के संत साई कृष्ण दास के द्वारा सत्संग कीर्तन करके संगत को निहाल किया। सत्संग की शुरुआत राधा कृष्णा एवं बाबा भगत राम जी के फोटो पर माला पहनाकर दीप प्रज्वलित करके की गई।

सत्संग में साईं कृष्ण दास के द्वारा एक ज्ञानवर्धक राजा जनक की कथा सुनाई गई। साईं जी ने बताया कि किस तरह राजा जनक ने अपने द्वारा हरि नाम की कमाई से नरक में अपने कर्मों की सजा भुगत रहे समस्त प्राणियों को मुक्त करवा दिया।

ऐसा होता है हरी नाम प्रताप। कथा के बाद साई ने अपनी अमृतवाणी में गुरबाणी भजन मेरी लगी श्याम संग प्रीत…..,दिल दे फकीरान खे…आदि भजन सुनाकर संगत भाव-विभोर हो गई। भाई कुंदन डोड़वानी ने भी सिंधी भजन गाया।

आया सभागा डिह वसाया गुरु न जा सदके…,लाल झूले लाल झूले लाल…,जिए मुहनजी सिंध…जैसे भजनों भक्तों को आनंदित कर दिया। बेटियां क्यों पराई हैं यह गीत सुनकर संगत के आंखों से आंसू बहने लगे।

भाई गोविंद जी ने भी श्री कृष्ण का भजन गाकर संगत को निहाल किया। कार्यक्रम के आखिर में अरदास की गई पल्लव पाया गया। प्रसाद वितरण किया गया। साईं जी का विजय दुसेजा, गोविंद दुसेजा, मोहन जैसवानी, सच्चानंद मंगलानी ने फूलों का गुलदस्ता देकर स्वागत किया।

दयानंद बलदेव मंगलानी ने साई को पखर पहनाकर उनका सम्मान किया। इस आयोजन को सफल बनाने में जयराम दास खत्री, प्रकाश चावला, मनोहर आडवाणी, प्रदीप पंजाबी पूज्य सिंधी पंचायत राजकिशोर नगर के अध्यक्ष महेंद्र डोड़वानी, सच्चानद मंगलानी, कल्याण दास बजाज, अमर छाबड़ा, विकास कुकरेजा सहित सभी का विशेष सहयोग रहा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here