इस दिन मनेगी दीपावली, जाने विस्तार से लक्ष्मी पूजा के शुभ मुहूर्त के विषय में

4

हिन्दुओं का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार दीपोत्सव को माना जाता है। जिसे दीपावली भी कहा जाता है। रोशनी के पर्व के तौर पर इस त्योहार को धूमधाम से मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना करते हुए माना जाता है।

त्योहार आध्यात्मिक रूप से अंधकार पर प्रकाश की जीत, अज्ञान पर ज्ञान, बुराई पर अच्छाई और निराशा पर आशा की जीत का प्रतीक है। ज्यादातर जगहों पर दीपोत्सव पांच दिन की मनाई जाती है। इस लेख के माध्यम से हम दीपोत्सव के महत्व व पूजा के शुभ मुहूर्त के विषय में बताएंगे।

ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद मनोज तिवारी ने बताया कि धनतेरस के दिन से दीपावली का त्योहार शुरू हो जाता है। उसके बाद नरक चतुर्दशी को यम के नाम का दीपक जलाने की परंपरा है। उसके अगले दिन कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को दीपावली का त्योहार मनाया जाता है।

हर बार अमावस्या के दिन मां लक्ष्मी की पूजा करते हुए दीपावली मनाई जाती है। लेकिन इस बाद छोटी दीपावली व बड़ी दीपावली यानी की लक्ष्मी पूजा एक ही दिन है। इस बार 14 नवंबर को दीपावली मनाई जाएगी।

लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त

इस साल पूजा का शुभ मुहूर्त 14 नवंबर को शाम पांच बजकर 28 मिनट से शाम 7 बजकर 24 मिनट तक है। वहीं प्रदोष काल शाम 5 बजकर 27 मिनट से रात 8 बजकर 7 मिनट तक रहेगा।

वहीं अमावस्या की तिथि 14 नवंबर को दोपहर 2 बजकर 17 मिनट से 15 नवंबर को सुबह 10 बजकर 36 मिनट तक ही रहेगा।

दीपावली का महत्व

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान राम जब लंका विजय कर अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ वनवास पूरा करने के बाद अयोध्या लौटे थे। तब अयोध्या का हर घर दीपक और रोशनी से जगमगा उठा था।

अयोध्यावासियों ने भगवान राम के घर लौटने की खुशी में घर को दीपों से सजाया था। तब से हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को दीपावली का त्योहार मनाया जाता है।