अलौकिक कीर्तन दरबार व अमृत संचार समागम में साध-संगत हो रही निहाल

0

पंजाबी युवा समिति की ओर से तीन दिवसीय अलौकिक कीर्तन दरबार व अमृत संचार समागम कार्यक्रम की शुरुआत हो गई है। कार्यक्रम गुरुद्वारा दयालबंद स्थित गुरु सिंघ सभा में आयोजित की गई है। कार्यक्रम में हजूरी रागी जत्था भाई रविंदर सिंह, भाईचरण सिंह खालसा हजूरी रागी जत्था दरबार साहिब,भाइ्र सरबजीत सिंह रंगीता दुर्ग वाले तथा

कथावाचक भाई परमजीत सिंह खालसा आनंदपुर साहिब वाले, गुरुद्वारा के हेड ग्रंथी भाई मान सिंह वडला व हजूरी रागी जत्था भाई जतिदंर सिंह खालसा अपने कीर्तन से साध-संगत को निहाल कर रहे है।

कार्यक्रम में चार दीवान हो रहे है। शुक्रवार 12 मार्च शाम सात बजे से 11.30 बजे तक कार्यक्रम में वाहे गुरु की महिमा गाई गई। शबद कीर्तन, गुरुवाणी के माध्यम से देर रात तक साध-संगत को निहाल किया। अमृतसर से पधारे पंज प्यारे द्वारा अमृत पान कराया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में पंजाबी समाज के लोग पहुंचे।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में पंजाबी युवा समिति के अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह छाबड़ा, उपाध्यक्ष जसपाल सिंह छाबड़ा, सचिव राजविंदर सिंह गंभीर, कोषाध्यक्ष कमलदीप सिंह अरोरा, अमरजीत सिंह दुआ, गुरुदीप सिंह अजमानी, परमजीत सिंह सलूजा, चरणजीत

सिंह गंभीर, अमरजीत सिंह टुटेजा, भूपेन्द्र सिंह गांधी, हरदीप सिंह सलूजा, परमजीत सिंह उपवेजा, अनिल सलूजा, महेन्द्र सिंह छाबड़ा, बलजीत सिंह गंभीर, कुलवंत सिंह सलूजा, इंद्रजीत सिंह इच्छापुरानी, दिलबाग सिंह छाबड़ा, बलविंदर सिंह सलूजा सहयोग कर रहे है।

11 वर्षों से हो रहा अलौकिक कीर्तन

समिति के सदस्यों ने बताया कि यह आयोजन लगातार 11 वर्षों से किया जा रहा है। कार्यक्रम 12, 13 व 14 मार्च तक होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here