भारत का राष्ट्रगानः जन-गण-मन

0

जन-गण-मन अधिनायक जय हे,

भारत-भाग्य विधाता।

पंजाब सिंधु गुजरात मराठा,

द्राविड़ उत्कल बंग।

विंध्य हिमाचल यमुना गंगा,

उच्छल जलधि तरंग।

तव शुभ नामे जागे,

तव शुभ आशिष मांगे,

गाहे तव जय गाथा।

जन-गण-मंगलदायक जय हे,

भारत भाग्य विधाता।

जय हे! जय हे! जय हे!!!

जय! जय! जय! जय हे!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here