पल्स पोलियो अभियान को सफल बनाने हो रही माइक्रो प्लानिंग

0

बिलासपुर .एक तरफ पूरे राज्य में कोविड 19 के टीकाकरण की तैयारी चल रही है जिसके लिए पूरे जिले में कोल्ड चेन तैयार किया जा रहा है।

इसके साथही स्वास्थ्य विभाग 17 से 19 जनवरी तक चलने वाले पल्स पोलियो अभियान की तैयारी में भी जुटा हैजिसकी माइक्रो प्लैनिंग सीएमएचओ के निर्देश पर की जा रही है।

पल्स पोलिओ अभीयान हर बार की तरह इस बार भी स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग सहित अन्य विभागों के सहयोग से सफलता पूर्वक पूर्ण किया जाएगा।

सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन ने बताया पल्स पोलियो अभियान के अंर्तगत शून्य से पांच वर्ष तक के बच्चों को दो बूंद जिंदगी की यानी पोलियो की दवा पिलाई जाएगी। इसके लिए माइक्रो प्लान तैयार किया जा रहा है

जिसके तहत टीकाकरण केंद्रों में 17 जनवरी को बूथ पर एवं 18 तथा 19 जनवरी को घर-घर जाकर छूटे हुए बच्चो को पोलियो की खुराक पिलाई जाएगी।

हर बार की तरह इस बार भी विभाग यह पूरा ध्यान रखेगा कि कोई भी बच्चा दवा पीने से वंचित न रहे। आयोजित होने वाले पल्स पोलियो अभियान की जानकारी देते हुए ज़िला टीकाकरण अधिकारी डॉ. मनोज सैम्युअल ने बताया

जिले की कुल आवादी 25 लाख से अधिक है। इसमें शून्य से पांच साल तक के बच्चों की संख्या लगभग 3.50 लाख के करीब है। इसलिए इस बार इससे अधिक बच्चों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है

जिसके लिए जिले में 1948 से अधिक बूथ बनाए जाएंगे। प्रत्येक बूथ पर 4 सदस्यों की टीम रहेगी ।

इस टीम द्वारा बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाई जाएगी और 18 और 19 जनवरी को किसी कारण पोलियो की दवा पीने से छूटे बच्चों को लगभग 3.50लाख से अधिक घर.घर जाकर पल्स पोलियो टीम द्वारा पोलियो रोधी दवा पिलाई जायेगी ।

पल्स पोलियो अभियान के बारें में अभी से प्रचार-प्रसार की गतिविधियों को तेज करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए लोगों को शार्ट मैसेज सर्विस एसएमएस के माध्यम से जानकारी उपलब्ध कराई जाऐगी।

साथ ही दीवार लेखन, बैनर, पोस्टर्स का प्रयोग कर जागरुकता बढाने का काम होगा। अभियान को सुचारू रूप से संचालित करने केलिए बूथ संचालित होंगे।

जहां दो पृथक कक्ष एवं शौचालय इस कार्य के लिए आरक्षित रखे जायेंगे। डॉ. सैम्युअल ने कहा पल्स पोलियो अभियान को सफल करने के लियेंमहिला एवं बाल विकास विभाग के आंगनबाड़ी केन्द्रों को भी संचालित किए जाने के लिए कहा गया है।

विशेष रुपसे हाई रिस्क एरिया जैसे रेलवे बस्ती, घुमन्तु परिवार, ईंट भट्ठा, अर्बन स्लम आदि का चिन्हांकन किया जाएगा एवं ऐसे क्षेत्रों में पल्स पोलियो अभियान के लक्षित

बच्चों तक पहुँच बनाकर उनको पोलियो की दवा दी जायेगी ताकि कोई बच्चा ना छूटे एवं सभी चिन्हांकित पोलियो बूथ पर पोलियों की दवा निर्धारित समय पर पिलाई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here