पितर पक्ष में गौ कथा के माध्यम से सोशल मीडिया पर दिया गौ रक्षा व पितरों के श्राद्ध का संदेश

0

बिलासपुर.पितृ मोक्ष एंव जन कल्याण के लिए गोधाम मे गौकथा का संगीतमय आयोजन चल रहा है। गौकथा वाचक गोपाल कृष्ण रामानुज दास ने कथा श्रवण करते हुए कहा कि पितरों के मोक्ष के लिए गौमाता जरुरी है।

अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा और भक्ति समर्पण को प्रकट करने का यह पावन शुभ अवसर पितृपक्ष में गौ माता के सानिध्य में पितरों को तर्पण करें, पिंड दान करें गौमाता को खिलाया हुआ अन्य किसी काल में भी व्यर्थ नहीं जाता ।

गौ माता को हम यदि चारा खिलाते हैं, तो वह गोबर रूपी वरदान के रूप में हमें प्राप्त होता है शास्त्रों में भी कहा गया है लक्ष्मी गोबर में होती है। लक्ष्मी माता का वास होता है और गौ माता को हम यदि जल पिलाते हैं तो वह भी हमें गोमूत्र गंगा रूप में हमें प्राप्त होता है ।

हमारे पितरों को पिंडदान करते हैं तो गौ माता को भी खिलाना पड़ता है । जिससे हमारे पितरों को प्राप्त होता है । गौ माता की सेवा गौ माता की रक्षा से ही हमारे पितरों का कल्याण होगा वैतरणी नदी पार करने के लिए चित्रों के कल्याण के लिए गौ माता की कृपा करती हैं।

उनके उद्धार के लिए हमें गौ माता की सेवा करनी होगी सत्य सनातन धर्म में सोलह संस्कार माने गए हैं । जिसमें सभी संस्कार बिना गौ माता के कोई भी प्रतिपादित नहीं होता जन्म से लेकर मृत्यु तक गौ माता लोगों का उद्धार करती हैं ।

मृत्यु उपरांत भी पितरों के कल्याण के लिए गौमाता आवश्यक है गौ माता के पंचगव्य दूध ,दही ,घृत आदि के सेवन से मनुष्य के हड्डी में छुपे हुए पाप भी नष्ट हो जाते हैं ।ऐसे पतित पावनी गौ माता की कथा को श्रवण करने से जनमानस का कल्याण निश्चित ही होता है

अर्पण तर्पण समर्पण

हमें पितरों के आशीर्वाद से जो कुछ भी धन वैभव ऐश्वर्य प्राप्त हुआ है उन्हें इस कृत्य पक्ष में पितरों के निमित्त गौ माता के लिए अर्पण करें । पितरों को गौ माता के दूध से तर्पण करें जल्द से तर्पण करें अपने पूर्वजों मित्रों के प्रति श्रद्धा और भक्ति से समर्पण भाव होकर

हम यदि या पितृपक्ष में पूजन करते हैं तो आप उत्तर हमारे सकल मनोरथ को पूर्ण होने का वरदान देते हैं, गौमाता की सेवा से हमारे पितृ दोष नष्ट होते है और हम पितृ ऋण से मोक्ष मिलता है।

हमारे सत्य सनातन हिंदू धर्म में जीवित ही माता-पिता का पूजन करने के साथ ही मृत्यु उपरांत पूर्वजों का पिंडदान तर्पण आदि श्रद्धा भक्ति के साथ पितृपक्ष पर पूजा-अर्चना किया जाता है । हमारे जन्मदाता माता-पिता, दादा-दादी ,नाना -नानी सभी देव तुल्य माने गए हैं।

गौकथा का सीधा प्रसारण फेसबुक के माध्यम से किया जा रहा है साथ ही गोधाम में गौ सेवक उपस्थित होकर कथा श्रवण कर रहे हैं पितरों के निमित्त यह कथा आयोजित हुआ है ।

जिसमें बिलासपुर गौ सेवा धाम के विपुल शर्मा ,शत्रुघ्न कृष्ण दास , मुकेश कश्यप, गोपाल मजूमदार, चेतन साहू, नरेंद्र यादव ,प्रियांशु शर्मा ,सुनीता साहू आदि गौ सेवक उपस्थित होकर कथा श्रवण कर रहे हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here