पुरुष नसबंदी पखवाड़े से बढ़ी जागरूकता 26 पुरुषों ने पुरुष नसबंदी के लिए कराया रजिस्ट्रेशन

0

बिलासपुर. ज़िले में चलाए गए पुरुष नसबंदी पखवाड़े से पुरूषों में काफी जागरूकता आई है। बिलासपुर जिले की बात करें तो यहां कुल 26 लोगों ने पुरुष नसबंदी के लिए अपना रजिस्ट्रेशन कराया है।

इसमें अब तक दो पुरुषों की नसबंदी की जा चुकी है और जल्द ही तय तिथि पर अनुबंधित अस्पताल में शेष चिन्हांकित पुरुषों की नसबंदी कराई जाएगी। सीएमएचओ डॉ.प्रमोद महाजन ने बताया, पुरुष नबंदी पखवाड़े के दौरान गांवों

में मोर मितान मोर संगवारी चौपाल का आयोजन कर लोगों को पुरूष नसबंदी के लिए प्रेरित किया गया। ग्रामीणों के बीच समूह चर्चा के माध्यम से पुरुष नसबंदी के प्रति फैली भ्रांतियों और मिथकों को भी दूर किया जा रहा है।

इससे लोगों में जागरूकता आयी है और वह पुरुष नसबंदी के लिए राजी भी हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार और परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने के लियें 21 नवम्बर से 4 दिसम्बर के बीच प्रदेश में दो चरणों में पुरुष नसबंदी पखवाड़ा मनाया गया है।

इस दौरान लोगों में पुरुष नसबंदी के प्रति फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिए अलग.अलग कार्यक्रम चलाए गए हैं। वहीँ विभागद्वारा जिला व ब्लॉक स्तर पर जागरूकता रथ रवाना भी चलाया गया है।

पुरूष नसबंदी परिवार नियोजन के स्थाई साधनों में से एक है। लोगों को नसबंदी के बारे में जागरूक करने के लिए पहले नसबंदी करा चुके पुरुष भी आगे आए हैं।

उन्होंने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया, नसबंदी से किसी प्रकार की कोई कमजोरी नहीं आती है। हम पहले की ही तरह एकदम सामान्य जीवन जी सकते हैं।

डॉ. महाजन ने बताया पुरुष नसबंदी पखवाड़े में बिलासपुर से 26 परुषों ने अपनी नसबंदी के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है, यह बड़ी बात है।

पखवाड़ा के दौरान मोबिलाइजेशन सप्ताह में जनसंख्या स्थिरीकरण में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने एवं राज्य में एनएसवी कार्यक्रम को सुचारू ढंग से संचालित करने के लिए एनएसवी के लिए पुरुषों को जागरूक किया जा रहा है।

वहीँ मोर मितान मोर संगवारी के तहत गोष्ठियों को आयोजित कर पुरुषों को नसबंदी के लिए प्रेरित किया गया। इसके लिए ऐसे गांवों का चयन किया गया जहां दो या दो से अधिक बच्चों वाले दम्पति ज्यादा थे।

समूह चर्चा के माध्यम से उन्हें छोटे परिवार के फायदों के बारे में बताया जा रहा है ।

नसबंदी कराने वालों को 2,000 तो उत्प्रेरकों को मिलते हैं 300 रुपये पुरुष नसबंदी पखवाड़ा में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, मितानिनों, एएनएम और

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने पुरुषों को परिवार नियोजन के लिए उपलब्ध विभिन्न साधनों की जानकारी दी। इस दौरान उनको बताया गया कि एनएसवी कराने में मात्र दस मिनट का समय लगता है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा नसबंदी कराने वालों को दो हजार रुपए और उत्प्रेरकों को 300 रुपए प्रोत्साहन राशि दी जाती है।

नसबंदी पखवाड़ा के दौरान आरएचओ, एएनएम और मितानीनों द्वारा योग्य दम्पतियों का सर्वे कर पुरुष गर्भनिरोधक साधनों के उपयोग के लिए संवेदीकरण, चिन्हांकन एवं पंजीकरण भी किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here