महावीर जन्मोत्सव 14 स्वप्नों की बोली एवं पूजन ऑनलाइन संपन्न

0

बिलासपुर । श्री जैन श्वेतांबर श्री संघ समाज के द्वारा पर्वाधिराज पर्युषण महापर्व 2020 का बुधवार को समाज के सदस्य कोविड-19 की वजह से सोशल मीडिया के माध्यम से भगवान महावीर जन्मोत्सव का धर्म लाभ घर बैठे लिया । पूजन में शांति कलश की पूजा, सामायिक, कल्प सूत्रए 14 सपनों की बोली, शाम को प्रतिक्रमण एवं रात्रि में 108 दिए से महा आरती की गई ।

पर्वाधिराज पर्युषण महापर्व नेहरू नगर स्थित विमल चोपड़ा के निवास में भगवान महावीर का जन्मोत्सव मनाया गया । सुबह एवं रात्रि में विशेष पूजा की के साथ 14 स्वप्नों की बोली लगाई गई । पूजन वेशभूषा धारण कर स्तवन कुलनायक पूजा, शांति कलश पूजा, मंगल दीपक सहित कई धार्मिक आयोजन संपन्न हुए । समाज की ज्योति चोपड़ा द्वारा कल्प सूत्र का वाचन किया गया ।

महावीर जन्मोत्सव 14 स्वप्नों की बोली ऑनलाइन लगी

पर्युषण महापर्व के पांचवे दिन भगवान महावीर स्वामी के जन्म उत्सव मनाया गया। 14 स्वप्नों की बोली लगाई गई । जिसमें प्रथम स्वप्न श्वेतवृषभ की बोली सतीष चंद, आशीष सुराना ,द्वितीय श्वेत हस्ती कचरीदेवी प्रवीण रुपेश गोलछा, तृतीय सपने की बोली केसरी सिंह सुभाष चंद अनुराग श्रीश्रीमाल, चतुर्थ महालक्ष्मी की बोली डॉक्टर नीरज उषा शेंडे, पांचवें पुष्पमाला शशिकांत रमेश भयानी परिवार, सातवंी स्वप्न सूर्य देव हेतु इंदरचंद शितेष कुमार

बैदमुथा, आठवां महा ध्वज किरण भंसाली, नवमें स्वप्ना कलश हीरचंद कांता चोपड़ा, दसवीं पदमा सरोवर सुनीता प्रकृति जैन ग्यारहवें सपनों की बोली क्षीरसमुद्र प्रवीण कुमार रुपेश कुमार गोलछा, बारहवाँ देव विमान विमल वैभव विवेक चोपड़ा परिवार एवं संजय कोठारी परिवार, तेरहवाँ रत्नो की राशी नरेंद्र तुषार अमित मेहता, अंतिम बोली निर्धूम अग्नि और पद्म सरोवर की बोली दिनेश मनोज एवं प्रवीण कोचर परिवार ने धर्म लाभ लिया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here