भगवान गणेश है मां लक्ष्मी के दत्तक पुत्र, पढ़े पौराणिक कथा

6


सभी देवी-देवताओं के कोई न कोई संतान पुराणों में बताए गए है। मां लक्ष्मी व भगवान विष्णु के संतानों का वर्णन कहीं भी नहीं मिलता है। विष्णु जगत के पालनहार है और उन्हें ही वे अपना संतान मानते है। उनकी पत्नी मां लक्ष्मी को तो हर कोई जानता है लेकिन उनके दत्तक पुत्र के विषय में हम इस लेख के माध्यम से बताएंगे।

मां लक्ष्मी सुख-समृद्धि व ऐश्वर्य की देवी है और उनकी पूजा-अर्चना कर मनुष्य को सभी सुख मिल जाते है। मां लक्ष्मी की कृपा के बिना मनुष्य का जीवन कष्टों से भर जाता है। धन-धान्य की देवी के रूप में जाना जाता है। इनकी कृपा से मनुष्य रातों रात अमीर हो जाता है। संपत्ति हासिल कर लेता है।

यह है पौराणिक कथा

एक बार लक्ष्मी जी को स्वयं पर अभिमान हो गया कि सारा जगत उनकी पूजा करता है और उन्हें पाने के लिए ललायित रहता है। उनकी इस भावना को भगवान विष्णु समझ गए।

भगवान विष्णु ने माता लक्ष्मी का घमंड व अहंकार ध्वस्त करने के उद्देश्य से उनसे कहा कि देवी भले ही सारा संसार आपकी पूजा करता है और आपको पाने के लिए व्याकुल रहता है किंतु आपमें एक बहुत बड़ी कमी है। आप अभी तक अपूर्ण है।

दीपोत्सव में लक्ष्मी पूजा की विधि, जाने विस्तार से

जब माता लक्ष्मी ने अपनी उस कमी को जानना चाहा तो विष्णु जी ने उनसे कहा कि जब तक कोई स्त्री मां नहीं बनती तब तक वह पूर्णता को प्राप्त नहीं करती। आप निःसंतान होने के कारण अपूर्ण है।

यह जानकर माता लक्ष्मी को बहुत दुःख हुआ। उन्होंने अपनी सखी पार्वती को अपनी पीड़ा बताई और उनसे उनके दो पुत्रों में से गणेश को उन्हें गोद देने को कहा।

माता लक्ष्मी का दुःख दूर करने के उद्देश्य से पार्वती जी ने अपने पुत्र गणेश को उन्हें गोद दे दिया। तभी से भगवान गणेश माता लक्ष्मी के दत्तक पुत्र माने जाने लगे। गणेश को पुत्र रूप में पाकर माता लक्ष्मी अति प्रसन्न हुई।

इस दिन मनेगी दीपावली, जाने विस्तार से लक्ष्मी पूजा के शुभ मुहूर्त के विषय में

लक्ष्मी के साथ पूजे जाते है गणेश

मां लक्ष्मी गणेश को पुत्र रूप में पाकर प्रसन्न हुई और तब उन्होंने गणेश को वरदान दिया कि जो भी मेरी पूजा के साथ तुम्हारी पूजा नहीं करेगा मैं उसके पास नहीं रहूंगी। इसलिए सदैव लक्ष्मी जी के साथ उनके दत्तक पुत्र भगवान गणेश की पूजा की जाती है।

मां लक्ष्मी को कमल का फूल क्यों है पसंद, जाने कारण

दीपोत्सव में होती है खास पूजा माता-पुत्र की

मां लक्ष्मी की पूजा का सबसे खास पर्व दीपोत्सव को माना गया है और इस दौरान पांच दिन के दीपोत्सव में हर रोज मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

जिसमें बड़ी दीपावली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा उनके दत्तक पुत्र श्री गणेश के साथ पूजा की जाती है। इस दिन इनकी पूजा साथ-साथ करते हुए सुख-समृद्धि का वरदान लोग मांगते है।

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here