सेंधा नमक खाने के जाने फायदे, ग्रंथों में क्यो माना है सात्विक इसे, जाने विस्तार से

2

धर्म ग्रंथों में सेंधा नमक को सात्विक बताया गया है। ऋषि वाग्भट्ट ने भी अपने ग्रंथों में कहा है कि व्रत या फलाहार में सेंधा नमक का उपयोग किया जा सकता है। वहीं आयुर्वेद में इसे बहुत ही गुणकारी माना गया है।

वरिष्ठ नाड़ी रोग विषेशज्ञ डाॅ.अभिषेक सिंह ठाकुर के मुताबिक रोजाना खाने में इसका इस्तेमाल किया जाए तो इससे वात, पित्त और कफ संबंधी दोष नहीं होंगे। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने लगती है और कैंसर का खतरा भी कम होने लगता है।

सेंधा नमक का स्वाद नमकीन तो होता है लेकिन खाने के बाद ये शरीर में मधुर रस में बदल जाता है। अपने इसी गुण की वजह से ये दूसरे नमक से अच्छा माना जाता है।

इसमें तीखापन दूसरे नमक से कम होता है। जिससे भूख बढ़ती है और खाना भी आसानी स ेपच जाता है।

इस नमक के इस्तेमाल से ब्लड प्रेशर और पेट संबंधी परेशानी नहीं होती है। ये नमक हृदय रोग में राहत देने वाला माना गया है।

डाइजेशन में सुधार

इसके सेवन से मेटाबाॅलिज्म का लेवल सही बना रहता है। ये शरीर में पानी की उचित मात्रा को भी बनाए रखता है। इससे बाॅडी में हाइड्रेट रहती है।

साथ ही डाइजेशन भी सही रहता है। खाने में इसे शामिल करके ब्लड सर्कुलेशन को भी सही रखा जा सकता है।

पोषक तत्वों से भरपूर

इस नमक के करीब 84 पोषक तत्व होते है। इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है।

ये आपकी हड्डियों के साथ-साथ शरीर के कई अंगों के लिए भी लाभदायक होते है। शरीर को पोषक तत्वों की आवश्यकता है तो इसका सेवन करना चाहिए।

तनाव दूर करने में मददगार

ये बाॅडी और दिमाग को रिलैक्स करता है। इससे तनाव, चिंता जैसी समस्याएं दूर रहती है। इसकी चुटकी भर मात्रा खाने से डाइजेशन सही रहता है।

रक्त विकार आदि के रोग जिसमें नमक खाने को मना हो उसमें भी सेंधा नमकर का उपयोग किया जा सकता है।

2 COMMENTS

  1. अच्छा स्वास्थ्य ज़रूरी है।‌‌‌ काजल किरण कश्यप जी को इस लेख के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here