पितृ पक्ष में क्या करे, जाने इस लेख में

3

पितृ पक्ष 2 सितंबर से शुरू हो रहा है। जो कि 17 सितंबर 2020 तक चलेगा। हिन्दू धर्म में पितृ पक्ष का विशेष महत्व होता है। माना जाता हे कि जो लोग पितृ पक्ष में पूर्वजों का तर्पण नहीं कराते है। उन्हें पितृदोष लगता है।

श्राद्ध के बाद ही पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। श्राद्ध से पितरों को शांति मिलती है। वे प्रसन्न रहते है। उनका आशीर्वाद परिवार को प्राप्त होता है। यह वह समय होता है।

जब हम पितरों का तर्पण, उनका श्राद्ध करते है। इस लेख के माध्यम से हम पितृ पक्ष में क्या करना चाहिए उसका उल्लेख करेंगे।

पितृ पक्ष में क्या करे

पितरों का श्राद्ध उनकी मृत्यु तिथि पर ही करना चाहिए।

पितर पक्ष के दौरान घर की अच्छी तरह से सफाई करनी चाहिए। पितृ पक्ष में गाय, कुत्ते और कौए को भोजन अवश्य कराना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से पितरों को हमारे द्वारा दिया गया भोजन प्राप्त होता है।

जिस व्यक्ति का श्राद्ध कर रहे है उसका मनपसंद खान जरूर बनाए। ब्राम्हणों को भोजन अवश्य ही करना चाहिए। उन्हें अपने सामथ्र्य के अनुसार दान दक्षिणा अवश्य देनी चाहिए।

पितरों के श्राद्ध के बाद भांजे को भोजन अवश्य कराए। उसे दक्षिणा देकर आशीर्वाद अवश्य ले।

पितृ पक्ष में क्या न करे

पितृ पक्ष में पितरों का श्राद्ध कर्म अवश्य ही करना चाहिए। ऐसा न करने से पितरों का श्राप लगता है।

इस दिन घर में लड़ाई-झगड़ा नहीं करना चाहिए। इससे पितर नाराज होते है।

इस समय अपने घर पर मांस और मदिरा का सेवन भी नहीं करना चाहिए।

पितृ पक्ष में आपकों किसी भी पशु या पक्षी को न तो मारना चाहिए। नहीं सताना चाहिए।

इस समय में किसी भी ब्राम्हण बुजुर्ग का अपमान तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here