वृंदावन व मथुरा के सुंदर वस्त्रों से सजाएंगे कान्हा को, यहां मिल रहा पूजन सामान

0

बिलासपुर-श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व कितना महत्वपूर्ण है इस बात को हर कोई जानता है। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के लिए लोग तैयारी में जुटे हुए है। शहर में मथुरा व वृंदावन के वस्त्र-आभूषण बाजार में लाए गए है। जिससे अपने नटखट बाल गोपाल को सजाकर उनकी विधि-विधान से पूजा-अर्चना कर सकते है। इस लेख के माध्यम से हम पूजन सामग्री से संबंधित जानकारी देंगे। साथ ही पूजन सामग्री मिलने वाले स्थान को बताएंगे।

गोल बाजार, सदरबाजार, हरदेवलाल मंदिर के पास, नेहरू नगर, मंगला चैक सहित शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में जन्माष्टमी के लिए दुकान सजी हुई है। जहां पर पूजन सामग्री व श्रृंगार सामग्री उपलब्ध है। हर साल की तरह इस साल भी यह उत्सव मनाया जाएगा। लेकिन कोरोना काल में मटकी फोड़ प्रतियोगिताएं कम ही होंगी। लेकिन भगवान को सजाने व संवारने में कोई कमी नहीं होगी।

हरदेवलाल मंदिर के पास सजी है सुंदर दुकाने
पूजन सामग्री के लिए शहर में हरदेव लाल मंदिर के पास गोल बाजार को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि इसी क्षेत्र में पूजन से संबंधित सामग्री मिलती है। शिव पूजन सामग्री के संचालक राहुल साहू ने बताया कि पूजा से संबंधित हर तरह की सामग्री यहां पर उपलब्ध है। खास तौर पर कान्हा जी की मूर्ति से लेकर झूले, आभूषण व वस्त्र हर एक सामग्री एक ही साथ मिलती है। उन्होंने बताया कि भगवान के वस्त्र मथुरा-वृंदावन जैसे क्षेत्रों से ही आते है। इस बार भी वहीं से आए है लेकिन कोरोना काल होने के वजह से कम आए है।

लकड़ी के झूले है खास
बाल गोपाल का जन्मोत्सव मनाने के लिए झूला बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इसलिए यहां पर पितल, स्टील के अलावा लकड़ी के भी झूले मिल रहे हैं। ये सभी झूले सुंदर ढंग से सजाए गए है। साथ ही साथ सागौन के लकड़ी के भी झूले लाए गए है।

सेट में मिल रहा श्रृंगार सामान
भगवान श्रीकृष्ण के पूजन व श्रृंगार के लिए पूजन सामग्री एक सेट में मिल रहे है। जिसमें बांसुरी, मुकुट, कान की बाली, बैठने के लिए आसनी व हार है। इसके अलावा इसमें अलग-अलग तरह से कपड़े, मुकुट व अन्य श्रृंगार व पूजन सामग्री ली जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here