घर में तुलसी का पौधा जरूर लगाए, इसमें छिपा है धार्मिक व वैज्ञानिक कारण

3

तुलसी एक पौधा है लेकिन हिन्दू धर्म में तुलसी का पौधा देवी का स्वरूप मानी जाती है। माना जाता है कि घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाने से घर में सुख-समृद्धि आती है। कोई भी पूजा-पाठ हो तुलसी पत्र के बिना पूजा नहीं की जाती है।

ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद मनोज तिवारी ने बताया कि तुलसी का धार्मिक महत्व तो है साथ ही इसके चमत्कारिक असर के कारण इसे औधषि के तौर पर भी उपयोग किया जाता है। तुलसी के बारे में मान्यता है कि समुद्र मंथन के समय जो अमृत धरती पर छलका उससे ही तुलसी की उत्पत्ति हुई।

शास्त्रों में तुलसी को पूजनीय, पवित्र और देवी का दर्जा दिया गया है और तो और घर में तुलसी का पौधा लगाना हितकारी भी माना जाता है। सामान्य रूप से तुलसी के पौधे को एक औषधीय पौधा माना जाता है। वहीं धर्मावलंबी तुलसी को माता के रूप में पौराणिक समय से पूजते आ रहे है।

पुराने समय से आज के दौर में भी तुलसी के पौधे पूजनी और पवित्र माने जा रहे है। देवताओं की बनी रहती है कृपापौराणिक मान्यता है कि घर में तुलसी का पौधा लगाने से देवी-देवताओं की विशेष कृपा बनी रहती है। घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है। इसके साथ ही आर्थिक तौर पर भी लाभ मिलता है। इन सभी शुभताओं के साथ ही देवी-देवताओं की कृपा बनी रहती है।

तुलसी पौधा का धार्मिक महत्व

हिन्दू धर्म के अनेक ग्रंथों जैसे पद्मपुराण, ब्रम्हवैवर्त, स्कंद पुराण, भविष्य पुराण और गरूड़ पुराण में तुलसी के पौधे का विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता के मुताबिक तुलसी पत्ते के बिना भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण की पूजा पूरी नहीं होती तो वहीं तुलसी दल हनुमान जी को भोग में बेहद प्रिय होता है।

तुलसी के पौधे की देखभाल करने से सारे जन्मों के पाप से मुक्ति मिल जाती है। इसके अलावा मृत्यु के दौरान गंगाजल संग तुलसी के पत्ते लेने से पुराणों के अनुसार आत्मा को स्वर्ग और शांति की प्राप्ति हो जाती है।

तुलसी के पत्ते और गंगाजल को पूजा में कभी भी बासी नहीं माना जाता है। तुलसी की पूजा जिन घरों में रोजाना होती है वहां यमदूत नहीं आते।

इस्काॅन का पहला मंदिर बना था बाहर, जाने कहां इस लेख में

वैज्ञानिक महत्व

शरीर में ऊर्जा का प्रवाह तुलसी के नियमित सेवन से नियंत्रण में रहता है। साथ ही व्यक्ति की उम्र भी बढ़ जाती है। एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीबायोटिक गुण तुलसी में रहते है। जो शरीर को संक्रमण से लड़ने के काबिल बनाती है। घर में तुलसी का पौधा होने से वातावरण शुद्ध रहता है और तुलसी संक्रमण रोगों से लड़ती है।

तुलसी और वास्तु शास्त्र

तुलसी का पौधा जिन घरों में लगा होता है मान्यता है कि वहां वास्तुदोष नहीं होता है। घर में तुलसी का पौधा लगाना अतिशुभ होता है।

तुलसी मां की पावन स्तुति करे ऐसे…

तुलसी के पौधे से जुड़े कुछ नियम

धर्म ग्रंथों के मुताबिक तुलसी पूजा रोज की जानी चाहिए। रोज तुलसी के पौधे को जल देने से लाभ मिलता है। वहीं शाम के समय तुलसी के पौधे के समीप दीपक लगाया जाता है। प्रतिदिन तुलसी के पौधे की आराधना से मां तुलसी की कृपा मिलती है। तुलसी माता की पूजा से महालक्ष्मी प्रसन्न होती है।

घर में तुलसी के पौधे की रोज पूजा करने से घर के समस्त वास्तुदोष व नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है। परिवार की आर्थिक स्थिति में भी काफी सुधार आता है। तुलसी का पौधा कभी भी सूखना नहीं चाहिए। इसलिए यदि आप बाहर जा रहे हो तो पौधे में प्रतिदिन जल देने की व्यवस्था अवश्य ही करे।

इससे घर में सुख-शांति बनी रहेगी। तुलसी का पौधा सूखना अशुभ होता है। तुलसी की पत्ती रोज तोड़ते है लेकिन तुलसी का पौधा घर में है तो तुलसी तोड़ने के लिए खास बातों का भी ध्यान रखना चाहिए। इससे तुलसी माता प्रसन्न रहती है। तुलसी एकादशी, रविवार और चंद्रग्रहण के दिन न तोड़े।

श्याम तेरी बंशी पुकारे राधा नाम…