यहां भाई के साथ भाभी को भी बांधी जाती है राखी, पढ़े पूरा लेख

2

रक्षाबंधन का पर्व बहुत ही पवित्र पर्व माना गया है। जिसमें भाई-बहन के आपसी स्नेह के भाव को प्रकट कर उत्सव मनाया जाता है। देशभर में इस पर्व को बहुत ही उत्साह से मनाया जाता है। वहीं कुछ जगह ऐसे भी है जहां पर सिर्फ भाई ही नहीं बल्कि भाभियों को भी राखी बांधा जाता है। इस लेख के माध्यम से हम इसके पीछे के कारण की जानकारी देंगे। साथ ही इस परंपरा का विस्तार से वर्णन करेंगें।
राजस्थान में खास तौर पर यह पंरपरा चली आ रही है। राजस्थानी मारवाड़ी समाज व राजस्थान क्षेत्र के लगभग सभी समाज में इस परंपरा का पालन वर्शो पूर्व से किया जा रहा है। इस पर्व को भैया के साथ भाभी के लिए भी खास बना दिया जाता है। देखा जाए तो यह परंपरा भाई-बहन के साथ ही ननद व भाभी के रिश्ते को भी मजबूत करती है।

भाई के लिए राखी व भाभी के लिए आती है लुंबा राखी

भाई के लिए बहने संुदर-सुंदर राखियां लाती है और उनके कलाई पर बड़े ही प्यार से सजाती है। वहीं भाभी को ननद जो राखी बांधती है उसे लुंबा राखी या चूड़ा राखी कहा जाता है। यह खास तौर पर भाभियों के लिए तैयार किया जाता है। पहले बाजार में इस तरह की राखी नहीं होती थी तब बहने ही अपनी भाभी के लिए लुंबा तैयार करती थी। लेकिन आज बाजार में डिजाइनर व तरह-तरह की लुंबा राखी मिलती है।

भाभी के साथ ननद का बनता है खास रिश्ता

भाई बहन के पर्व में जब बहन अपनी भाभी को राखी बांधती है तो उसमें भी एक अहसास होता है। एक भावना छिपी होती है। जिस तरह से भाई बहन को हमेशा उसकी रक्षा का वचन देता है। वहीं भाभी ननद को सदैव स्नेह से घर पर मान-सम्मान देने का संकल्प लेती है। विवाह के बाद पति व पत्नी सुख-दुख के साथी होते है इसलिए जब भाई बहन की रक्षा का वचन देता है तो उस वचन को निभाने में भाभी भी सहयोग करती है।

उत्सव होता है यह पर्व

रक्षा बंधन का पर्व हर क्षेत्र में धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन राजस्थान में इस पर्व को उत्सव की तरह माहौल रहता है। जहां भाई-बहन के साथ भाभी में भी रक्षा बंधन के पर्व को लेकर उत्साह रहता है।

यह भी है मान्यता

मारवाड़ी समाज में कई मान्यताएं है इस पर्व को लेकर जिसमें से एक मान्यता यह भी है कि भाई के साथ भतीजे को भी राखी बांधी जाती है। जब नई बहु घर में आती है तो बहन अपनी भाभी को भतीजे के बदले राखी बांधती है। जब तक भाभी को लड़का नहीं होता तब तक। जब लड़का होता है तो उसे भी राखी बांधी जाती है। वहीं कुछ जगहों पर भाई-भाभी के अलावा भतीजे को भी राखी बांधते है ताकि रिश्ता भाई तक ही न सिमटे उसके बच्चे भी उसे मान-सम्मान और आदर दे। वहीं कुछ क्षेत्रों में भैया-भाभी को बस राखी बांधते है।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here