तुलसी मां की पावन स्तुति कर जीवन में पाए सुख-शांति

1

नमो नमो तुलसी महारानी

नमो नमो तुलसी पटरानी

जाको दरस परस अघ नासे

महिमा वेद पुराण बखानी

साखा पत्र, मंजरी कोमल

श्रीपति चरण कमल लपटानी

धन्य आप ऐसो व्रत किन्हों

सलिग्राम के शीश चढ़ानी

छप्पन भोग धरे हरि आगे

त्ुलसीबिन प्रभु एक ना मानी

प्रेम प्रीत कर हरि वश किन्हें

सांवरी सूरत हृदय समानी

मीरा के प्रभु गिरधर नागर

भक्तिदान दीजै महारानी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here