जिले में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ज्ञानू को लगा कोरोना का पहला टीका

1

बिलासपुर. बिलासपुर के जिला अस्पताल से कोविड वैक्सीनेशन की शुरूआत आज की गई। इस दौरान सबसे पहली वैक्सीन यहां कार्यरत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ज्ञानू भोई को लगाई गई। ज्ञानू को वैक्सीन लगाने के बाद ऑब्जर्वेशन में रखा गया।

यहां बाहर निकलने के बाद ज्ञानू ने बताया कि टीका लगने के बाद वह पहले की तरह ही फील कर रहा है। उसे कोई भी परेशानी महसूस नहीं हुई है। उसने अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी बिना डरे इसे लगवाने की बात कही। शाम पांच बजे तक जिले के लोगों को कोविड- 19 टीका से प्रतिरक्षित किया गया।

प्रतिरक्षित लोगों को कोविड-19 टीका की अगली डोज के लिए 28वें दिन बाद 14-21 फरवरी के बीच की तारीख दी गई है। इसके लिए उनके मोबाइल पर मैसेज भी आएगा। टीकाकरण का उद्घाटन विधिवत तरीके से किया गया।

जिसमें बिलासपुर सांसद अरुण साव ने फीता काटा। इस दौरान बिलासपुर विधायक शैलेष पाण्डेय, नगर निगम के महापौर रामशरण यादव, सभापति शेख नजरूद्दीन और कांग्रेस नेता सहित सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन और सिविल सर्जन सहित जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. मनोज सैम्युअल मैजूद रहे।

बिलासपुर सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन ने बताया कि कोरोना वायरस कि अब उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। टीकाकरण के जरिए हम निश्चित रूप से कोविड पर काबू पा सकेंगे। जिले के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र सहित कुल 6 अस्पतालों में भी शनिवार को जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की निगरानी में टीके को लांच किया गया। जिसमें कुल 359 लोगों को टीका लगाया गया।

सीएमएचओ ने बताया कि जिले में अब तक 19161 मरीज पॉजिटिव आए हैं। अब तक 18850 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 108 एक्टिव केस हैं तथा अब तक जनपद में कुल 203 लोगों की कोरोना संक्रमण से मृत्यु हुई है।

डॉ.महाजन ने बताया जनपद में कोरोना को मात देने के लिए वैक्सीन की 11480डोज जिले को प्राप्त हो चुकी हैं। शनिवार को लांचिंग के लिए जिला, ब्लॉक एवं सत्र स्तर पर नोडल अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को नामित किया गया था। इसके पहले जिले में दो बार ड्राई रन यानी पूर्वाभ्यास भी किया जा चुका है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि भारत में विकसित कोरोना वैक्सीन पूरी तरह प्रभावी है। कोल्ड चेन के मानकों को पूर्ण करते हुये यह वैक्सीन जिले में आई है। अत्याधुनिक तकनीक से हम कोल्ड चेन बनाए हुये हैं। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.मनोज सैम्युअल ने बताया पहले डोज के बाद दूसरा डोज 28वें दिन लगेगा।

टीका लगने के बाद आधे घंटे तक टीकाकरण केंद्र पर रुकना होगा। प्रतिरक्षित व्यक्ति को यदि बेचैनी या किसी भी तरह की समस्या होती है तो निकटतम स्वास्थ्य अधिकारियों, एएनएम और आशा को इसकी सूचना दें। इसके लिए एंबुलेंस सेवा 108 भी उपलब्ध रहेगी।

प्रतिरक्षित व्यक्ति भी कोरोना अनुरूप व्यवहारों जैसे मास्क पहननाए हाथ की सफाई और 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाये रखने का पालन करें। उन्होंने बताया कि उच्च जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण के लिए चिन्हित किया गया है।

इन्हें तीन समूहों में बांटा गया है। पहले समूह में हेल्थकेयर वर्कर, दूसरे समूह में फ्रंटलाइन वर्कर, तीसरे समूह में 50 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति तथा जो पहले से ही किसी रोग से ग्रसित हैं। जिला टीकाकरण अधिकारी ने बताया कि कोई व्यक्ति बिना पंजीकरण के कोरोना वैक्सीन नहीं प्राप्त कर सकता है ।

कोरोना वैक्सीनेशन के लिए पंजीकरण के बाद ही सत्र स्थल और समय की जानकारी दी जायेगी । फोटो आईडी पंजीकरण और सत्यापन दोनों के लिए जरूरी है। ऑनलाइन पंजीकरण के बाद लाभार्थी को वैक्सीनेशन की नियत तिथि, स्थान और समय के बारे में मोबाइल पर एसएमएएस प्राप्त होगा। कोरोना वैक्सीन की उचित खुराक मिलने पर लाभार्थी को उनके मोबाइल नंबर पर एक क्यूआर कोड आधारित प्रमाण पत्र भी भेजा जायेगा।

अनुपस्थित की बनेगी सूची

शनिवार को शुरू हुये कोविड-19 टीकाकरण अभियान के दिन कई ऐसे लोग भी रहे जिनका नाम कोविन पोर्टल पर पंजीकृत था लेकिन वह टीकाकरण के समय नहीं आए। अनुपस्थित लोगों की अब एक अलग सूची तैयार होगी। इन लोगों को टीकाकरण के लिए अलग से समय दिया जाएगा।

सत्यापन के लिए आवश्यक

अगर आप कोविड-19 टीकाकरण के लिए जा रहे हैं तो अपना एक पहचान पत्र ले आना न भूलें। इसमें आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आइडी एवं पैन कार्ड, पासपोर्ट, जॉब कार्ड, पेंशन दस्तावेज, मनरेगा कार्ड , स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, सांसदों, विधायकों, एमएलसी को जारी आधिकारिक प्रमाण पत्र, बैंक, पोस्ट ऑफिस की पासबुक, केंद्र, राज्य सरकार या पब्लिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा जारी सेवा आईडी कार्ड आदि में कोई एक हो सकता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here