शारदीय नवरात्रि में भी भक्त नहीं कर सकेंगे साक्षात मां महामाया के दर्शन, आन लाइन दर्शन से होना होगा संतुष्ट

0

बिलासपुर. 51 शक्ति पीठों में से एक माने जाने वाली सिद्ध शक्ति पीठ मां महामाया के दर्शन भक्तों को आॅन लाइन ही करना होगा। कोरोना संक्रमण के चलते यह फैसला लिया गया है कि मां के दरबार में सिर्फ पुजारी ही होंगे।

बाकि भक्तों को दर्शन के लिए आॅन लाइन व्यवस्था की जाएगी। शारदीय नवरात्रि में भक्तों का हर साल दर्शन व पूजन के लिए मां महामाया मंदिर रतनपुर के दरबार में जन सैलाब उमड़ता था।

लेकिन चैत्र नवरात्रि के बाद अब शारदीय नवरात्रि में भी भक्तों को मां के दर्शन नहीं होंगे। शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर से शुरू हो रही है। आदिशक्ति मां महामाया मंदिर रतनपुर में नवरात्र में पूजन को लेकर प्रशासन व ट्रस्ट की बैठक हुई।

जिसमें कलेक्टर सारांश मिततल व मंदिर समिति के द्वारा निर्णय लिया गया कि शारदीय नवरात्रि में भी वर्चुवल दर्शन करने की बात कहीं गई।

कोरोना संक्रमण से सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मंदिर 16 से 28 अक्टूबर तक भक्तों के लिए बंद रहेगा। इससे सीधे मां महामाया के दर्शन नहीं होंगे।

लेकिन मंदिर समिति के ट्रस्टी सुनिल सोंथलिया ने बताया कि भक्त मां के दर्शन घर से ही कर सके इसलिए आॅन लाइन दर्शन की सुविधा दी जाएगी।

मंदिर में होगी विधि-विधान से पूजा

ट्रस्ट के मुताबिक मंदिर में मां महामाया की पूजा शारदीय नवरात्रि में विधि-विधान से की जाएगी। लेकिन भक्तों के लिए मंदिर का पट बंद रहेगा। मंदिर के पुजारी मां आदिशक्ति की विधिवत पूजा-अर्चना, श्रृंगार व पाठ जैसे विधियों को करेंगे।

मेला, भंडारा सभी होंगे बंद

मंदिर परिसर में नवरात्रि में अस्थाई मेला व भंडारा के साथ कूपन भंडारा की भी व्यवस्था रहती थी। लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए ये सभी बंद रहेंगे। मंदिर परिसर में न मेला होगा न ही भंडारा होगा। इसके अलावा पद यात्रा भी स्थगित होगी।

चैत्र नवरात्रि के कटे रसीद से जलेगी ज्योति

मंदिर समिति के मुताबिक चैत्र नवरात्रि में जिन भक्तों के ज्योति कलश अथवा मनोकामना ज्योति के रसीद कटे थे उन्हीं के दीप प्रज्ज्वलित होंगे। नए रसीद नहीं काटे जा रहे है साथ ही उन भक्तों को अपने ज्योत के दर्शन वीडियो काॅल के माध्यम से हो सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here