हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की स्वर गूंजा शहर में, मनाया गया श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व

0

बिलासपुर-श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व शहर में बड़े धूमधाम व उत्साह के साथ मनाया गया। कोरोना संक्रमण के चलते इस पर्व में अन्य वर्ष की तुलना में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। गोविंदाओं की टोली कम संख्या में नजर आई वहीं उत्सव को लोगों ने अपने-अपने स्तर पर श्रद्धा भाव से मनाया। सिंधी काॅलोनी, जूना बिलासपुर में इस उत्सव को बच्चों व युवाओं ने मटकी तोड़कर मनाया। इस पर्व की परंपराओं को पूरा करते हुए श्रीकृष्ण जन्म की खुशियां मनाई गई। हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की कह कर लोगों ने श्रीकृष्ण का जयघोष किया।

कोरोना महामारी के कारण सामूहिक आयोजन नहीं हुए। लेकिन इसके बाद भी घरों में उत्सव मनाया गया। मंदिरों में हो रहे आयोजन को सोशल मीडिया के माध्यम से देखा। वहीं घरों में बच्चों को राधा रानी व श्रीकृष्ण की तरह सजाकर घरों में ही मटकी फोड़ने का कार्यक्रम किया गया। मटकी फोड़ते हुए श्रीकृष्ण के भजनों को गाते हुए सभी ने उत्सव का आनंद लिया और मटकी फोड़ी।

विधि-विधान से श्रीकृष्ण की पूजा-अर्चना कर अभिषेक-श्रृंगार किया गया। साथ ही भगवान को माखन मिश्री के अलावा पंजरी का प्रसाद भोग के रूप में अर्पित किया। घरों में बच्चे-बड़े सभी भक्तिभाव से प्रभु का नाम जपते रहे और जल्द ही कोरोना संक्रमण को खत्म करने की प्रार्थना की।


छोटे बच्चों को नटखट नंदलाल व बालगोपाल के रूप में सजाया । जिसे देखकर लोगों ने बच्चों की सराहना की साथ ही साथ बच्चों द्वारा मनमोहक प्रस्तुति दी गई। हर कोई अपने छोटे बच्चों को कान्हा के रूप में सजाता रहा। वहीं लड़कियों को भी राधा-रानी की तरह सजाया गया। बच्चों को देखकर हर कोई उत्साहित हुआ। सोशल मीडिया पर भी लोगों ने बच्चों की फोटो डाली।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here