विकलांगों के संघर्ष की गाथा का राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशन डॉ. विनय कुमार पाठक

0

बिलासपुर .अखिल भारतीय विकलांग चेतना परिषद की वर्चुअल मीटिंग का आयोजन किया गया । बैठक का आयोजन अखिल भारतीय विकलांग चेतना परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री मदन मोहन अग्रवाल , राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेंद्र अग्रवाल , विकलांग शोध.

संस्थान के संयोजक डॉ. विनय कुमार पाठक एवं विद्या केडिया के मार्गदर्शन में हुआ। इस दौरान परिषद के राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न राज्यों के सदस्य इस बैठक में शामिल हुए।

बैठक में डॉ.विनय कुमार पाठक ने विगत करोना काल के बावजूद परिषद द्वारा अन्य संस्थाओं के सहयोग से आयोजित विकलांग. विमर्श तथा किन्नर. विमर्श सहित अन्य

प्रमुख विषयों पर अंतरराष्ट्रीय स्तर के विभिन्न सेमिनारों के बारे में जानकारी देते हुए बताया । इन बेबिनारों के माध्यम से अखिल भारतीय विकलांग चेतना परिषद की पहचान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित हुई है,

साथ ही आने वाले समय मे विकलांगों के संघर्ष की गाथा को राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशन भी करेंगे। इस वेबिनार में विभिन्न संस्थाओं से जुड़े बुद्धिजीवी वर्ग के लोगों ने शामिल होकर

परिषद द्वारा प्रारंभ किए गए। इस वृहद अभियान को सफल बनाया है। राष्ट्रीय महामंत्री मदन अग्रवाल ने बिलासपुर के मोपका में स्थित परिषद के विकलांग चिकित्सालय एवं

संस्थान के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए बताया। विकलांग चिकित्सालय के कार्यों को गति देने की दिशा में प्रयास किया जाएगा।

शासन से अन्य कार्यो को स्वीकृति दिलाने हेतु निरंतर प्रयास किया जाएगा। बैठक में विद्या केडिया ने कहा बिलासपुर में आने वाले दिनों में स्थानीय स्तर पर विकलांग भाइयों

के सहयोग के लिए तथा उनकी शिक्षा एवं महिलाओं को रोजगार संबंधी व्यवस्था हेतु सिलाई मशीन सहित अन्य सहायता स्वयं की ओर से उपलब्ध करवाने की घोषणा की।

साथ ही शक्ति से रामअवतार अग्रवाल ने भी करोना काल में विकलांगो द्वारा किए गए रचनात्मक कार्यों के लिए उन्हें प्रोत्साहन स्वरूप सम्मान देने संबंधी योजना बनाने आग्रह किया।

परिषद की सक्ति इकाई के अध्यक्ष लखन लाल अग्रवाल ने भी इस संबंध में अपने विचार रखें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here