डॉक्टर नीना शर्मा के उपन्यास का अंतर्राष्ट्रीय मंच पर विमोचन सम्पन्न

0

बिलासपुर अखिल भारतीय विकलांग चेतना परिषद बिलासपुर के तत्वावधान में आणंद आर्ट्स कॉलेज, आणंद गुजरात कि अध्यापिका डॉ नीना शर्मा के किन्नर पर आधारित उपन्यास मेरे हिस्से का धूप का ऑनलाइन विमोचन किया गया। २ और ३ अगस्त को परिषद के आलोचक, कवि, भाषाविद तथा छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉण् विनय कुमार पाठक जी की अध्यक्षता में किन्नर दशा और दिशा पर २ दिवसीय अंतराष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया। जिसमें देश विदेश के लगभग दो हजार से ज्यादा प्रतिभागियो ने हिस्सा लिया। विभिन्न ख्यातिलब्ध साहित्यकारों ने अपने अपने विचार व्यक्त किये, जिसमे लीलाधर जगुड़ी, नीरजा माधव, डॉ शैलेन्द्र शर्मा, डॉ सुधांशु शुक्ला, मोहकांत गौतम जैसे रचनाकार जुड़े।

इस ऑनलाइन आयोजन में पोलैंड, नीदरलैंड, मलेशिया से विद्वान साहित्यकारो ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। २ अगस्त को उपस्थित साहित्यकारों के हाथों इस उपन्यास का ऑनलाईन विमोचन हुआ। डॉक्टर विनय कुमार पाठक ने नीना शर्मा को इस उपन्यास के लिए बधाई दी तो शैलेन्द्र शर्मा ने इसे सकारात्मक सोच का उपन्यास बताया। नीरजा माधवजी ने इस उपन्यास को नई सोच का उपन्यास कहा। डॉक्टर सुरेश माहेश्वरी ने नीना शर्मा के अथक प्रयास की सराहना की। साथ ही मदन मोहन अग्रवाल ने भी शुभकामना दी। बालमुकुंद श्रीवास ने बताया कि इस वेबीनार में किन्नर विमर्श के विभिन्न पहलुओं पर गहन चर्चा हुई। अखिल भारतीय विकलांग चेतना परिषद कई वर्षो से छत्तीसगढ़ और अन्य प्रदेशों में विकलांग लोगो के जीवन स्तर को सुधारने के लिए अथक प्रयास कर रही है, साथ ही साहित्य सेवा के माध्यम से रचनाकारों को आगे बढ़ाने प्रयास कर रही है। मेरे हिस्से की धूप अब अमेजोन पर भी उपलब्ध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here