धर्म के ज्ञान रोज अपने घर में वाचन, सामायिक, प्रतिक्रमण करें – जैन मुनिश्री पंथक

0

बिलासपुर टिकरापारा जैन समाज में पूज्य गुरुदेव श्री पंथक मुनि महाराज साहेब का चौमासा पूर्ण हो चुका है । कल 16 फरवरी को सुबह 5 बजे विहार करके रायपुर की ओर प्रस्थान करेंगे । पूज्य गुरुदेव का आज स्थानक में आखरी प्रवचन किया गया है । और संध्या में प्रतिक्रमण किया गया जो कि समाज के श्रावक-श्राविका के द्वारा किया गया।

तत्पश्चात भजन संध्या का कार्यक्रम रखा हुवा। प्रवचन में पूज्य गुरुदेव ने सभी से कहा कि इस धर्म के ज्ञान को हर रोज अपने घर में वाचन, सामायिक, प्रतिक्रमण के रूप में लगातार किया जाना चाहिए ।जिससे कि मन,वचन और काया हमेशा शुद्ध, सरल और निरोगी रहती है । घर में वातावरण भी शुद्ध रहता है ।

किसी भी बूरी आत्माओं का निवास नहीं रहता है । किसी भी प्रकार की घर पर बुरी छाया नहीं रहती है । सभी घर के सदस्यों पर सौभाग्य की देवी का आशीर्वाद सदा बना रहता है । साथ ही तप, तपस्या भी किया जाना चाहिए । जिसमें महान तप में वर्षी तप के बारे में गुरुदेव ने बताया कि जीवन में एक बार प्रत्येक श्रावक-श्राविका को यह अवश्य करना चाहिए ।

चातुर्मास में तपस्वियों एवं सहयोगी का सम्मान

चातुर्मास कार्य मे श्री संघ को सहयोग प्रदान करके इस कठिन कार्य को सुगम, सरल एवं सुंदर चातुर्मास बनाया है । जिसमें तपस्वी सुधा गांधी, दीप्ति बेन वोरा एवं संघ प्रमुख भगवान दास भाई सुतारिया का सम्मान किया गया।

साथ ही चातुर्मास सहयोग प्रदाता प्रकाश पुखराज, प्रवीण दामानी, हस्ते सरला दामानी, शरद दोषी, शैलेश भाई वोरा, किशोर देसाई, दीपक भाई, अमरेश जैन, हेमंत, शैलेष तेजानी, भावेश गांधी, हेमा तेजाणी, आशा दोषी,

भावना गांधी, लता देसाई, दीपिका गांधी, छाया देसाई, देविला सुतारिया, उर्मिला तेजानी, डॉक्टर एकता अग्रवाल, दीपा सुतारिया, आंचल तेजाणी, कीर्ति सुतारिया, राजू तेजाणी, मनीष शाह गोपाल वेलाणी, देवेंद्र कोठारी का सम्मान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here