कर्ज अथवा लेन-देन इन दिनों व तारीखों में भूल कर भी न ले, जाने कारण

2

कर्ज यानी की ऋण मानव जीवन का अभिन्न अंग बनते जा रहा है। पहले लोग केवल विवाह अथवा जमीन खरीदने के लिए ही किसी साहूकार से कर्ज लिया करते थे। बैंकों के खुलने के साथ ही अब कर्ज लेना आम बात हो गई है।

मकान, जमीन के अलावा लोग छोटी सी छोटी चीजों को भी कर्ज लेकर खरीद रहे है। जिसके कारण से मनुष्य अपने ही बनाए चक्रव्यूह में फसता जाता है। कर्ज लेना जितना आसान है उतना ही उसे चुकाना भी तो महत्वपूर्ण है।

कुछ लोग तो बहुत आवश्यकता होने पर ही कर्ज लेते है और कुछ अनावश्यक रूप से भी कर्ज लेकर अपने को बड़ा दिखाने का प्रयास करते है। ज्योतिषाचार्यों की दृष्टिकोण से देंखे तो छठा भाव रोग, ऋण और शत्रु का होता है। छठे स्थान में राहु छठे स्थान में राहु के साथ मंगल शनि अथवा बुध का प्रभाव हो ऐसा, व्यक्ति बहुत अनावश्यक खर्च करने वाला होता है

और जीवनभर ऋणी बना रहता है और कर्ज छूटता नहीं है। शनि मंगल की छठे या 12वें स्थान में शत्रु राशि पर युति हो तो व्यक्ति को कर्ज के मामले में बार-बार अपमानित होना पड़ता है।

कर्ज या उधारी लेना सही समय

सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को ही कर्ज ले। इन दिनों में लिया हुआ कर्ज जल्दी चूक जाता है। शनिवार, रविवार, बृहस्पतिवार और मंगलवार को कर्ज ना ले। इन दिनों में लिया कर बहुत मुश्किल से अदा होता है। कभी-कभी होता भी नहीं है।

कर्जा चुकाने के लिए शनिवार, रविवार, मंगलवार और गुरुवार शुभ होते है। किसी भी महीने की 8, 17 और 26 तारीख को कर्ज न ले। क्योंकि इन तिथियों का मूलांक 8 होता है और आठ अंक के स्वामी शनि होते है। इन तिथियों में लिया हुआ कर्ज भी बड़ी मुश्किल से चूकता है।

कर्ज के पेपर या कागजात पर काले पेन से न तो लिखें और ना ही हस्ताक्षर करे। कर्ज के पेपर पर हस्ताक्षर करने से पहले इस मंत्र को मन में पढ़े। त्वदीयं वस्तु गोविंदम तुभ्यमेव समर्पयेत। इस मंत्र के जाप के प्रभाव से आप का लिया हुआ कर्ज जल्दी चूक जाता है।

यदि कर्ज जरूरत से ज्यादा हो गया हो और लाख उपाय करने पर भी कर्ज चूक नहीं रहा हो तो मंगलवार को मध्य रात्रि में हनुमान जी की मूर्ति के समक्ष बैठें और उनके सामने चमेली के तेल का दिया जलाएं और इस विशेष मंत्र का जाप करे।

हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट। इसी मंत्र का लगातार 11, 21 या 51 मंगलवार को करते रहे। इसके प्रभव से आपको कर्ज मुक्ति के साथ-साथ आपकी आय भी बढ़ेगी।