भला करो लेकिन दूसरों के सामने प्रचार न करो-जैन मुनि श्री पंथक

1

बिलासपुर– किसी का भला करो किंतु औरों को न बताएं और इसका अनोखा आनंद लेवे। भलाई के कामों को बताने की वजह यह है इन डायरेक्टली उस बात की प्रशंसा सुनना चाहते है। ऐसे करते समय हम अपने आपको ज्यादा बुद्धिमान समझते है। हम बहुत दयालु और परोपकारी है ऐसा दूसरों से सटिर्फिकेट पाने की लालसा करते है। कोई भी परमार्थ का कार्य हमेशा प्रशंसा पाना ही होता है। लेकिन यदि इन बातों का खुलासा न किया जाए तो या एक जादुई चमत्कार का रूप ले लेता है। यह बातें जैन मुनि श्री पंथक ने बिलासपुर टिकरापारा स्थित जैन भवन में प्रवचन के दौरान लोगों से कही।


जैन मुनि पंथक प्रतिदिन लोगों को प्रवचन के माध्यम से जीवन जीने की सही दिशा दिखा रहे है। शनिवार को उन्होंने परमार्थ के कार्य को किसी से भी न कहने की बात पर प्रवचन दिया। उन्होंने कहा कि परमार्थ के लिए किया गया प्रत्येक कार्य अच्छा ही होने वाला है किंतु इसे दसूरों को बताया न जाए तो इससे भलाई का तत्व नहीं निकलेगा। हम सभी के अंदर सकारात्मक भावना का ज्यादा से ज्यादा सत्व इकट्ठा हो जाएगा और जिंदगी जीने में भरपूर आनंद मिलते रहेगा। कोई भी भलाई का काम केलव भला करने के लिए किया जाना चाहिए। उसके बदले में दूसरों से किसी अन्य प्रकार की अपेक्षा नहीं रखनी चाहिए।


ऐसा करने से अपने दिल की गहराई में से हृदय स्पर्शी प्रेम भावना उभर आएगी। जो कि अति मूल्यवान है और इस वजह से किए गए परमार्थ का अनूठा आनंद मिलेगा। ऐसा करने से अपने शरीर ही सुखकारी रहेगा। परिवार में मेल-मिलाप बना रहेगा और अन्य लोगों से मान-सम्मान जैसे अन्य दूसरा भी फायदा मिलता रहेगा।


इस प्रवचन कार्यक्रम को आयोजित कराने में समाज के लोगों का विशेष सहयोग है समाज के अध्यक्ष भगवानदास सुतारिया ने बताया कि चातुर्मास को सफल करने का प्रयास समाज के सदस्य पूरी मेहनत के साथ धर्म का लाभ ले रहे है। आॅन लाइन प्रवचन की व्यवस्था टेकनेट इंटरनेट सर्विसेज रायपुर के कुमार दोषी एवं आयुष शाह, बिलासपुर से आंचल जैन, दृष्टि तेजाणी के द्वारा मुनि श्री का प्रवचन सोशल मीडिया के माध्यम से आॅन लाइन प्रतिदिन किया जा रहा है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here