होलिका दहन पर बन रहा ध्रुव योग, जाने रंगोत्सव पर्व का महत्व

0

होली रंगों का त्योहार है होली (Holi 2021)के पर्व को उल्लास का पर्व भी कहा जाता है। होली का पर्व देश भर में मनाया जाता है। इस दिन एक-दूसरे को अबीर और गुलाल लगाते है। गले मिलकर बधाई और उपहार देते है।

होली का पर्व प्रेम और सौहार्द्र के साथ मनाने की परंपरा है। मथुरा में होली का पर्व विशेष रूप से मनाया जाता है। यहां पर देश-विदेश से लोग होली के पर्व को देखने आते है। कान्हा की नगरी मथुरा में होली की छटा देखते ही बनती है।

बृज में तो होली का उत्सव एक माह पूर्व से ही आरंभ हो जाता है। दिल्ली, मुम्बई, बेंगलुरु, लखनऊ सहित देश के सभी स्थानों पर होली का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इन स्थानों पर होली को मनाने की तैयारियां आरंभ हो चुकी है।

होलाष्टक 21 मार्च से शुरू

होलाष्टक 21 मार्च से आरंभ होगा और 28 मार्च को होलिका दहन पर इसका समापन होगा। मान्यता है कि होलाष्टक में आठ दिनों तक शादी विवाह जैसे मांगलिक और शुभ कार्य नहीं किए जाते है।

इस दिन होगा होलिका दहन

ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद मनोज तिवारी के मुताबिक होलिका दहन 28 मार्च रविवार के दिन पूर्णिमा की तिथि में किया जाएगा। इस वर्ष होलिका दहन का मुहूर्त 18 बजकर 37 मिनट से 20 बजकर 56 मिनट तक रहेगा।

अशुभ होने पर मंगल देता है जीवन में परेशानी, जाने उपाय

29 मार्च हो मनाई जाएगी होली

पंचांग के अनुसार इस वर्ष होली का पर्व 29 मार्च 2021 को फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को मनाया जाएगा। होली (Holi 2021) के पर्व पर ध्रुव योग का निर्माण हो रहा है। पंचांग के अनुसार इस दिन चंद्रमा कन्या राशि में विराजमान रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here