चुनी अलग राह मोती की खेती कर बनाई अपनी अलग पहचान, जाने पर्ल क्वीन की कहानी

3
Create your own identity by cultivating pearls in a different way, knowing the story of the Pearl Queen
चुनी अलग राह मोती की खेती कर बनाई अपनी अलग पहचान, जाने पर्ल क्वीन की कहानी

महिला दिवस विशेष

हर कोई आसमान की बुलंदियां हासिल करना चाहता है। लेकिन सफलता हर किसी को हासिल नहीं होती है। सफलता हासिल करने के लिए मन में लगन, विश्वास और बुलंद हौसले की जरूरत होती है। पूजा ने अपने बुलंद हौसले और लगन से मोती की खेती की ओर कदम बढ़ाया और लगातार प्रयास करते हुए कड़ी मेहनत से सुंदर-सुंदर मोतियां तैयार करने लगी।

मोतियां भी सिर्फ गोल नहीं बल्कि कई डिजाइन की बनाती है। एक अलग राह चुनने के बाद भी पूजा ने लगातार कार्य किया और अब छत्तीसगढ़ की पर्ल क्वीन बन गई है। पूजा समाज में उन युवाओं व महिलाओं के लिए उदाहरण है जो अपने सपनों को साकार करना चाहते है। महिला दिवस पर पूजा की कहानी के माध्यम से हम उसके संघर्ष और उसकी सफलता तक के सफर को बताएंगे।

महिला दिवस विशेष

चुनी एकदम अलग राह

पूजा विश्वकर्मा एक मध्यम परिवार की बेटी थी मां और बहन का सहारा बनने के लिए मोती की खेती का रास्ता चुनकर आगे बढ़ी। पूजा ने बताया कि वह कुछ करके दिखाना चाहती थी और घर परिवार की भी स्थिति मजबूत बनाना चाहती थी। इसलिए एक अलग राह मोती की खेती के विषय में जब पता चला तो वह उसका प्रशिक्षण लेकर कार्य करने लगी। धीरे-धीरे उसे काफी मेहनत के बाद सफलता मिली।

नागपुर से लिया प्रशिक्षण

पूजा ने नागपुर से मोती की खेती का प्रशिक्षण लिया। जब उसने आत्मनिर्भरता की ओर इस क्षेत्र को चुनकर कदम बढ़ाया तो लोग उसे कहते थे कि इससे कुछ नहीं होगा कुछ और कर। लेकिन पूजा ने किसी के बातों को ध्यान नहीं दिया और आज प्रदेश में पर्ल क्वीन के नाम से जानी जाती है। पूजा को कई सम्मान भी मिले है। जिसमें डाॅ.सीवी रामन विश्वविद्यालय में सम्मानित कर उसके कार्य को सराहा गया।

महिला दिवस विशेष

दूसरों को देती है प्रशिक्षण

पूजा ने बताया कि बहुत सी महिलाएं आत्मनिर्भर बनना चाहती है लेकिन उनको जानकारी नहीं होती है। इसलिए मैंने अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षण भी देना शुरु किया है। ताकि और भी लोग इससे जुड़े और सफलता की राह में आगे बढ़े।

शादी के बाद पति भी कर रहे सहयोग

पूजा ने बताया कि उसने अपना यह कार्य शादी के बाद भी चालू रखा है। इस कार्य में पति सत्येन्द्र गुलेरी व उनका परिवार पूरा सहयोग करता है। जिसके कारण लगातार वह इस कार्य को अच्छे से कर पा रही है।