गतौरा स्कूल में लाउडस्पीकर के माध्यम से बच्चों को पढ़ाई जा रही है

0

बिलासपुर.लगातार कोरोना की स्थिति हमारे प्रदेश में दिनों दिन विकराल रूप धारण कर रही है और समस्त शिक्षण संस्थान बंद हैं। वर्तमान समय में स्कूल खुलने के दूर-दूर तक कोई आसार नहीं है।

बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह बंद है खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में वर्तमान समय में cg सरकार व शिक्षा सचिव डा आलोक शुक्ला के प्रयास में लगे हैं कि किसी भी प्रकार से बच्चों की पढ़ाई जारी रहे।

इसी क्रम में शासन ने cgschool.in की वेबसाइट लांच कर बच्चों को आँनलाईन कक्षा से जोड़ने का बहुत ही सार्थक प्रयास किया है, परन्तु ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क समस्या, पालको के पास स्मार्ट फोन का ना होना स्मार्ट फोन है तो रिचार्ज कराने के लिए समय पर पैसे का ना होना ।

जैसी समस्या के कारण आँनलाईन कक्षा से ज्यादा बच्चे नहीं जुड़ पा रहे थे । और पढाई से वंचित हो रहे है । ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई के प्रति रुचि

पैदा करने तथा ग्रामीणो व पालको को शिक्षा के प्रति जागरूक करने की मुहिम आरती कश्यप व्याख्याता रसायन शास्त्र हाई स्कूल गतौरा तथा अल्का राठौर सहायक शिक्षिका प्रायमरी स्कूल गतौरा द्वारा लाउड स्पीकर कक्षा की शुरुआत की गयी है,

जो ग्राम गतौरा के ग्रामीणो के बीच बहुत लोकप्रिय हो रहा है। बच्चे तो बच्चे गाँव के बुजुर्ग भी लाउड स्पीकर मे बज रहे पाठों को जानकारी युक्त तथा नैतिक शिक्षा से परिपूर्ण मान रहें हैं।

लाउड स्पीकर कक्षा ग्राम गतौरा के प्रत्येक मोहल्ले के कोने कोने मे एक पाठ को एक सप्ताह तक चलाया जाता है । प्रत्येक मुहल्ले में दोनो मैडम की आवाज बजते ही बच्चे बड़े बुजुर्गों की भीड़ लग जाती है तथा सभी इसका आनंद लेते हैं व नई जानकारी मिलने की बात कहते हैं ।

इस बात से प्रभावित होकर ग्राम गतौरा के सरपंच सुरेश राठौर ने इस लाउड स्पीकर कक्षा की प्रशंसा करते हुए आर्थिक सहयोग भी दिया । इस प्रकार जहाँ लोग लॉकडाउन में बच्चों

की पढ़ाई पूरी तरह बंद होने की दुहाई दे रहे हैं। वही इस प्रकार की पहल वास्तव में प्रेरणादायी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here