चाइल्डलाइन ने थामा यूथ संस्कार का हाथ, बच्चों का बचपन बचाने चल रहे अभियान

1

बिलासपुर.यूथ संस्कार फाउंडेशन छत्तीसगढ़ व समर्पित फाउंडेशन चाइल्डलाइन बिलासपुर के संयुक्त तत्वावधान में पंच उत्सव अभियान के माध्यम से बच्चों के बचपन को बचाने अभियान को मिल रहा अच्छा प्रतिसाद।

यूथ संस्कार फाउंडेशन छत्तीसगढ़ की अध्यक्ष आकृति शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा प्रभाव बच्चों पर दिख रहा है क्योकि महामारी की वजह से स्कूल ना खुलने के कारण व परिवार की आर्थिक स्थिति बिगड़ने के कारण बच्चे धीरे-धीरे बाल भिक्षावृत्ति, मजदूरी, अपराध जैसे असामाजिक कृत्य में जाने अनजाने में शामिल होते जा रहे है

जिसे समय रहते हमे समझना होगा व साथ ही इस दिशा में बढ़ते बच्चों को बचाना भी होगा। भारतीय राष्ट्रीय मानवाधिकार द्वारा जारी आकड़ो के अनुसार प्रति वर्ष 14 वर्ष के कम उम्र के 40,000 बच्चे बाल अनैतिक कृत्य में संलिप्त होते जा रहे है।

इस सामाजिक बुराई को खत्म करने के लिए संस्था ने पांच बच्चों के जीवन को संवारने का जिम्मा लिया है जिसके तहत बच्चों को नए कपड़े, जूते.चप्पल व पढ़ाई सामग्री उपहार

स्वरूप दे कर उनके अभिभावकों को जागरूक करते हुए बच्चों को व्यापार या किसी भी तरह की बाल मजदूरी में शामिल ना करने का आग्रह किया गया है।

साथ ही संस्था के सदस्यों ने बच्चे को पढ़ाई में किसी भी तरह की समस्या होने पर उसका तत्काल समाधान करने का वादा किया है।

समर्पित फाउंडेशन चाइल्डलाइन के केंद्र समन्वयक पुरुषोत्तम पांडेय ने संस्था के कार्यों के सराहना करते हुए संस्था के प्रयास को सार्थक बताया औऱ इस मुहिम को बड़े पैमाने में

संचालित करने का आग्रह भी किया व साथ ही चाइल्डलाइन द्वारा संचालित चाइल्डलाइन से दोस्ती अभियान के बारे में जानकारी देते हुए अभिभावकों को बताया गया कि 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों से काम करना एक दंडनीय अपराध के क्षेणी में आता है इसलिए बच्चों को सिर्फ पढ़ाई करने दे।

कार्यक्रम को सफल बनाने में आकृति शर्मा, मनुराज, प्रकृति शर्मा, पायल ठाकुर, शारदा ठाकुर, नवीन साहू, धर्मेंद्र कौशिक, प्रवीण मरकाम, दीक्षा साहू, प्रियंका ठाकुर, नंद कुमार, सृष्टि दुबे सहयोग रहा।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here