घरों में दीप जलाकर मनाया उत्सव, चंद्र दिवस पर हुई पूजा-अर्चना

0

चंद्र दिवस के अवसर पर सिंधी समाज ने अपने घरों में भगवान झूलेलाल जी की की आरती व पूजा व घरों के बाहर जलाए गए दीपक

बिलासपुर– चंद्र दिवस के पावन अवसर पर सिंधी समाज के लोग मंदिरों में की पूजा-अर्चना चंद्र दिवस बहुत ही विशेष है । वैसे तो चंदा दिवस हर माह आता है। पर सावन माह आरंभ हुआ है और 20 जुलाई से झूलेलाल चालिया उत्सव भी आरंभ हुआ है । 2 दिन बाद ही 22 तारीख को चन्द्र है इसलिए यह चंद्र दिवस और ही खास हो गया है। क्योंकि चालिया उत्सव में 40 दिन तक भगवान झूलेलाल जी की भक्ति आराधना पूजा की जाती है और चंद्र दिवस के ही दिन भगवान झूलेलाल का जन्म हुआ था। इसलिए आज का चंद्र दिवस और ही खास है ।

समाज के लिए चंद्र के ही दिन कई शुभ कार्य भी होते हैं। जैसे सिंधी समाज के घरों में कुछ दिन पूर्व शादी हुई होगी तो नई नवेली बहू को चंद्र के दिन ही घर से बाहर मंदिर ले जाते हैं । पूजा-अर्चना करते हैं उसके बाद ही दूसरे कार्य किए जाते हैं ।झूलेलाल मंदिर झूलेलाल नगर चकरभाटा के संत लाल साई जी भी सोशल मीडिया के माध्यम से समस्त सिंधी समाज को चन्द्र की बधाइयां दी ।

सभी समाज के लोग शाम 7:00 बजे अपने अपने घरों के बाहर 5 दीपक जलाएं नदी तालाब में जाकर और भगवान झूलेलाल से प्रार्थना करे समस्त विश्व कल्याण के लिए सभी भक्तजनों ने भी साइ जी की बात पर अमल करते हुए संध्या अपने घर के बाहर दीपक जलाए गए। घरों में भगवान जी की आरती-पूजा की गई । तालाब गए और वहां से जल लेकर घरों में छिड़काव भी किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here