गौ माता की आरती….ऊं जय-जय गौ माता, पढ़े होगा अवश्य कल्याण

ऊं जय-जय गौ माता, मैया जय जय गौ माता

जो कोई तुमको ध्याता, त्रिभुवन सुख पाता

सुख-समृद्धि प्रदायनी, गौ की कृपा मिले

जो करे गौ की सेवा, पल में विपत्ति टले

आयु ओज विकासिनी, जन जन की माई

शत्रु मित्र सुत जाने, सब की सुख दाई

सुर सौभाग्य विधायिनी, अमृती दुग्ध दियो

अखिल विश्व नर नारी, शिव अभिषेक कियो

ममतामयी मन भाविनी, तुम ही जग माता

जग की पालनहारी, कामधेनु माता

संकट रोग विनाशिनी, सुर महिमा गाई

गौ शाला की सेवा, संतन मन भाई

गौ मां की रक्षा हित, हरी अवतार लियो

गौ पालक गौ पाला, शुभ संदेश दियो

श्री गौ माता की आरती, जो कोई सुत गावे

पद्म कहत वे तरणी, भव से तर जावे

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here